menubar

breaking news

Thursday, July 19, 2018

भू-जल के संरक्षण एवं संवर्धन हेतु बैठक सम्पन्न

जौनपुर -ं आज सायं कलेक्ट्रेट सभागार मे जिलाधिकारी अरविंद मलप्पा बंगारी की अध्यक्षता में भू-जल के संरक्षण एवं संवर्धन हेतु जन जागरूकता लाने के उद्देश्य से भूजल सप्ताह का आयोजन 16 जुलाई से 22 जुलाई 2018 तक किया जा रहा है बैठक में नागेंद्र सिंह एवं रामजन्म सिंह भू-गर्भ जल विभाग वाराणसी ने ग्राउंड लेवल पर पानी को संरक्षित करने के लिए विस्तार से जानकारी देते हुए बताया कि जनसंख्या के बढ़ते दबाव व पानी की अत्यधिक मांग तथा जल संसाधनों की सीमित उपलब्धता के परिणाम स्वरुप जल आपूर्ति एवं उपलब्ध जल की मात्रा के बीच अंतर बढ़ता जा रहा है, विशेषकर भूगर्भ जल का अनियोजित व असीमित उपयोग किए जाने से एवं विगत कुछ वर्षों से वर्षा में आई कमी से कुछ स्थानों पर भूजल स्तर निरंतर नीचे गिरता जा रहा है, ऐसी दशा में दीर्घकालीन प्रबंधन व संरक्षण की आवश्यकता है। विशेष रूप से वर्षा जल संचयन की परंपरागत तकनीक को अपनाने तथा भूजल संपदा का अपव्यय न हो इस पर गहन विचार करके अपनाने की आवश्यकता एवं समय की मांग भी है। इसी उद्देश्य की पूर्ति हेतु अधिकाधिक जल सहभागिता बढ़ाने के उद्देश्य से भूजल सप्ताह मनाया जा रहा है। इस अवसर पर जिलाधिकारी ने कहा कि पानी को बचाने के लिए प्रत्येक नागरिक को सजग होना पड़ेगा। ज्यादा से ज्यादा बरगद, पाकड़, पीपल जैसे पेड़ लगाए जाएं तथा लोगों को पानी का दुरुपयोग न करने के लिए जागरुक किया जाए। सबसे ज्यादा भू-जल का उपयोग कृषि कार्य के लिए किया जाता है। उन्होंने कहा कि जिले में विभिन्न विभागों को पेड़ लगाने के लिए लक्ष्य दे दिया गया है और ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाए जाने पर ध्यान दिया जा रहा है। 
                              बैठक में जिले में संभावित सूखे की तैयारी की समीक्षा भी की गयी। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी आलोक सिंह, अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व आरपी मिश्रा, जिला विकास अधिकारी दयाराम, डीसी मनरेगा कमलेश सोनी एवं संबंधित अधिकारी व कर्मचारीगण उपस्थित रहे।

जौनपुर में मनचलों का आतंक ,स्कूल जा रही छात्रा को सरे राह छेड़ने का वीडियो हुआ सोशल मीडिया में वायरल,हरकत में आई पुलिस

जौनपुर-  प्रदेश सरकार आए दिन मीटिंग करके प्रदेश में कानून व्यवस्था चुस्त-दुरुस्त करने का दम भर रही है लेकिन जौनपुर में इसका कोई खास असर दिखाई नहीं पड़ रहा है आए दिन यहां बलात्कार और छेड़खानी जैसी घटनाएं सामने आ रही हैं ताजा मामला मीरगंज थाना क्षेत्र का है जहां एक लड़की स्कूल से घर जा रही थी कि रास्ते में लड़को  ने रोककर लड़की से छेड़खानी शुरू कर दिया लड़की के विरोध करने के बावजूद लड़के उसे परेशान करते रहे जो वीडियो में साफ-साफ देखा जा सकता है लड़को के अंदर इलाकाई पुलिस और आने जाने वालों का भी कोई डरनही है क्या यही है योगी सरकार की कानून व्यवस्था जहा रात में क्या दिन में ही बहू बेटियां सुरक्षित नहीं है ।
इस मामले में पुलिस  अधीक्षक शहर ने बताया कि मामला मीरगंज  के एक गांव का है  जहाँ एक बिटिया के  साथ  इस तरह की घटना सामने आई हैं पुलिस ने कार्रवाई करते हुए वीडियो के आधार पर  तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया है साथ ही आवश्यक कार्रवाई भी कर रही है।

Tuesday, July 17, 2018

मास्टर डाटा बेस को 30 जुलाई तक करें अपडेट

जौनपुर - जिला समाज कल्याण अधिकारी बिपिन यादव ने बताया कि निदेशालय समाज कल्याण उ0प्र0 लखनऊ द्वारा अवगत कराया गया है कि जनपद में संचालित समस्त शिक्षण संस्थाओं द्वारा दशमोत्तर छात्रवृत्ति एवं शुल्क प्रतिपूर्ति योजनान्तर्गत मास्टर डाटा बेस को अपडेट करने के साथ-साथ नान-रिफण्डेबिल अनिवार्य शुल्क एवं शिक्षण शुल्क (TUTION FEES)  दोनो को अनिवार्य रूप से भरना है। यदि दोनो कालम नही भरे जाते तो संस्था का मास्टर डाटा, संस्था स्तर से अपूर्ण माना जायेगा। समय-सारिणी में दी गयी समयावधि मा0उच्च न्यायालय द्वारा दिये गये आदेशो के क्रम में निर्धारित की गयी है। इसमें किसी भी प्रकार का परिवर्तन अथवा समयबृद्धि किया जाना संभव नही हो सकेगा। उन्होंने कहा कि शासन द्वारा निर्धारित समय-सारिणी के अनुसार 30 जुलाई 2018 तक पूर्ण कराना सुनिश्चित करें। उक्त कार्य को प्राथमिकता प्रदान करते हुए अपनी लागिन को अपडेट करना सुनिश्चित करें।

Monday, July 16, 2018

युवक का गड्ढे में गिरने से मौत,परिजनों ने जताई हत्या की आशंका

जौनपुर- जनपद के मुंगराबादशाहपुर थाना क्षेत्र के तरहटी गांव में आज सड़क के किनारे गड्ढे में एक युवक की शव मिलने से सनसनी फैल गई। 
बता दें कि एक 35 वर्षीय जवाहर लाल वनवासी पुत्र जीतू वनवासी की आज शाम गड्ढे में  गिर गया जिससे पानी में डूबकर उसकी मौत हो गई।उक्त की शिनाख्त क्षेत्र के गांव हेमापुर तरहठी निवासी 35 बर्ष जवाहर वनवासी पुत्र जीतू वनवासी के रूप में हुई।जो गड्ढे के बगल से घर की तरफ जा रहा था तभी अचानक वह पानी भरे गड्ढे में गिर गया।जिससे पानी में डूबने से उसकी मौत हो गई।परिजनों के अनुसार वह मिर्गी का रोगी था।ग्रामीणों ने लाश देखा तो वह 100 नं पुलिस को सूचना दे दिया। पुलिस मौके पर पहुंचकर लाश को गड्ढे से निकलवा कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। 

Sunday, July 15, 2018

मुन्ना बजरंगी की हत्या का बदला लेने के लिए डॉक्टर से मांगी गई 20 लाख की रंगदारी,दो आरोपियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

जौनपुर- आज जनपद के जलालपुर थाना क्षेत्र के एक निजी अस्पताल के डाक्टर से  20 लाख की रंगदारी मांगने का मामला प्रकाश में आया है,बागपत जेल में माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी की हत्या के बाद उसकी तेरहवीं के पहले ही जौनपुर में उसके गुर्गों ने आतंक मचाना शुरू कर दिया है। मुन्ना बजरंगी की हत्या का बदला लेने के लिए उसके गुर्गे सुनील राठी की हत्या के लिए डॉक्टर से 20 लाख रंगदारी मांग कर सुपारी देने का मामला सामने आया है  एक अज्ञात नम्बर से एक हॉस्टिपल के संचालक डॉक्टर को फोन करके सुनील राठी की हत्या के लिए एक 20 लाख रुपये रंगदारी मांगने का मामला सामने आया है। रंगदारी मांगने वाले ने खुद को मुन्ना बजरंगी का चचेरा भाई बताया है | ​वहीँ रंगदारी मांगे जाने की ख़बर सुनते ही जिले के डॉक्टरों एवं व्यlपारियों में दहशत व्याप्त है। ​
खबरों के अनुसार पूरा मामला बुधवार की शाम का है। जलालपुर थाना क्षेत्र के नगर स्थित हर्षित हेल्थ केयर एंड सेंटर के संचालक डॉ आर के गुप्ता से अज्ञात नम्बर से फोन करके 20 लाख रुपये की रंगदारी मांगी गई है। न देने पर उसे पूरे परिवार सहित खत्म कर देने की धमकी भी दी गयी है। जिसे सुनते ही डॉ पूरे परिवार सहित दहशत में है डॉ ने इसकी जानकारी पुलिस को दिया पुलिस ने इसे गंभीरता से लेते हुए जांच पड़ताल में जुट गई ।और फोन से धमकी देने वाले दो लोगो को गिरफ्तार कर लिया और मामले के  जांच में जुट गई है।
बता दें कि  सीओ सिटी ने बताया की ​ 11 जुलाई को एक फोन द्वारा डॉ को रंगदारी मांगने की बात सामने आई इस पर कार्यवाही करते हुए दो लोगो को गिरफ्तार कर लिया गया है पूछ ताछ में पता चला कि  पूरा मामला एक महिला जो डॉ के नर्सिंग होम में काम करती है उसको निकालने को लेकर महिला के प्रेमी द्वारा डॉ को धमकी दी गयी थी  दोनों आरोपियों के बीच प्रेम प्रसंग से जुड़ा हुआ मामला  है |  डॉक्टर की तहरीर पर पुलिस ने अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ मुकदमा दर्ज करके हुए ​दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया है | ​ फ़िलहाल ​पकडे गये दोनों आरोपी  अजीत चौरसिया  और पंकज जायसवाल स्थानीय बाजार जलालपुर जौनपुर के ही बताये जा रहे है | 

उज्ज्वला योजना के तहत देश की 80 लाख निर्धन असहाय गरीब लोगों को गैस का कनेक्शन दिया गया-विद्यासागर सोनकर


जौनपुर - आज भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश महामंत्री एवं एवं एमएलसी व लखनऊ मंडल प्रभारी पूर्व सांसद विद्यासागर सोनकर ने आज शहर के एक होटल में  पत्रकारों से वार्ता करते हुए कहा कि देश के यशस्वी प्रधानमंत्री पीएम नरेंद्र मोदी की मंशा है कि 2022 तक किसानों को आय को दोगुना की जाए जिस पर प्रभावी कदम उठाए जा रहे हैं,उन्होंने कहा कि उनकी मंशा है कि शहरों की अपेक्षा गांव के सर्वांगीण विकास हेतु योजनाएं लाई जाए,जब गांव खुशहाल  होगा तो देश खुशहाल एवं समृद्धशाली होगा , उन्होंने कहा कि  उज्ज्वला योजना के तहत देश की  80 लाख निर्धन असहाय गरीब लोगों को गैस का कनेक्शन दिया गया. साथ ही स्वास्थ्य सेवाएं बेहतर मुहैया कराई जा रही है स्वास्थ्य सेवाओं में आयुष्मान योजना 
 इंद्रधनुष योजना के तहत लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं.l महिलाओं के टीकाकरण हेतु हर 9 तारीख को टीकाकरण की व्यवस्था की गई है साथ ही  सरकारी  चिकित्सालयों में  प्रसव पीड़ित महिलाओं को जच्चा बच्चा स्वस्थ रहने के लिए  ₹6000 देने की व्यवस्था की गई है जो उनके सीधे खाते में जाएगा... उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में संगठन की मजबूती हेतु  बूथ तक पूरे इकाई का गठन किया गया है... साथ ही  प्रदेश में भाजपा सदस्यता  का अभियान चलाकर  भाजपा विचारधारा से जुड़े 11 करोड़ लोगों को पार्टी की   सदस्यता   ग्रहण कराई गई .l प्रदेश में गन्ना किसानों के बकाया मूल्य का समय से भुगतान कराया गया .l उन्होंने कहा कि दिव्यांग i जनों के उत्थान हेतु सरकार तरह तरह की कल्याणकारी योजनाएं चला रही है जिसके तहत दिव्यांगों को लाभान्वित कराया जा रहा है..l. उन्होंने कहा कि इस बार प्रदेश सरकार का 80 लाख मिट्रिक टन गेहूं खरीदने का लक्ष्य था जिसके सापेक्ष में 60 लाख मीट्रिक टन गेहूं खरीद के सापेक्ष में 40 लाख मीट्रिक टन गेहूं किसानों से खरीद कर उनका मौके पर ही भुगतान किया गया . जिससे गांव का किसान प्रदेश सरकार की व्यवस्था से खुशहाल दिख रहा है.l  उत्तर प्रदेश के बागपत जिला जेल में माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी की जेल के भीतर अंधाधुंध फायरिंग कर की गई हत्या के मामले में कानून व्यवस्था की धज्जियां तार-तार ह होने के सवाल पर जब पत्रकारों ने पूछा कि आप के मुख्यमंत्री तो कहते थे कि.अब माफिया गुंडे खुद कह रहे हैं कि मुझे जेल के भीतर किया जाए ऐसे में जेल के भीतर हत्या होना . प्रदेश की कानून व्यवस्था पर तमाम सवालिया निशान उठ रहा है ,पत्रकारों  के जवाब में उन्होंने कहा कि  जेल में हुई हत्या को लेकर  सरकार गंभीर है और सरकार द्वारा जेल के जिम्मेदार अधिकारियों को तत्काल प्रथम दृष्टया दोषी पाए जाने पर निलंबित करके उनके विरुद्ध जांच बैठाई गई है और इस घटना के पीछे जो भी जिम्मेदार होगा उसके विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी .और जेल में बेहतर व्यवस्थाएं और जेल की व्यवस्था चाक-चौबंद करने के लिए कठोर कदम उठाया जा रहे हैं.l     उन्होंने बताया कि इस बार घर की महिलाओं को राशन कार्ड में मुखिया का नाम दर्ज किया गया है.l  इस अवसर पर प्रदेश सरकार के राज्यमंत्री गिरीश यादव पूर्व एमएलसी  कुंवर वीरेंद्र प्रताप सिंह पूर्व विधायक सुरेंद्र प्रताप सिंह भाजपा के जिलाध्यक्ष सुशील कुमार उपाध्याय वरिष्ठ भाजपा नेता ब्रह्मदेव . भाजपा नेता ओमप्रकाश सिंह .सरदार सिंह  एवं भाजपा के  पूर्व जिलाध्यक्ष ईश्वर देव सिंह अशोक कुमार श्रीवास्तव  एवं युवा भाजपा नेता रजनीकांत मिश्र  एवं महिला मोर्चा की नेत्री एवं पूर्व नगरपालिका  अध्यक्ष प्रत्याशी  किरण श्रीवास्तव समेत दर्जनों लोग उपस्थित रहे..l

Friday, July 13, 2018

फर्जी पत्रकारो की बाढ पर प्रशासन प्रेस कार्ड के लिए बना रही है नियमावली

लखनऊ- पत्रकारिता के गिरते स्तर तथा पत्रकारिता जगत में असामाजिक तत्वों के प्रवेश से चिंतित केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा समाचार पत्रों के पंजीकरण, समाचार पत्र/पत्रिका व टीवी चैनल तथा न्यूज एजेंसी द्वारा जारी प्रेस कार्ड के लिए नियमावली तैयार की जा रही है तथा मौजूदा नियमावाली में संशोधन किए जाने पर गंभीरता से मंथन चल रहा है।
मिली जानकारी के अनुसार देशभर में बढ़ रहे अखबारी आंकड़े और पत्रकारों की बढ़ रही संख्यां से पाठकों की जागरूकता में वृद्धि हुई है। वहीं कुछ ऐसे चेहरों ने भी पत्रकारिता जगत में दस्तक दे दी है, जिसके कारण पत्रकारिता पर सवालिया निशान लगने शुरू हो गए है।
पत्रकारिता क्षेत्र में होगी शैक्षणिक योग्यता अनिवार्य …
बता दें कि समाचार पत्र, पत्रिका के पंजीकरण के बाद प्रकाशक व संपादक एक-दो अंक प्रकाशित कर अनगिनत लोगों को प्रेस कार्ड जारी कर देते है, जिनका पत्रकारिता से कोई लेना देना नहीं होता। ऐसे चेहरों की बदौलत पत्रकारिता पर जरूर उंगलियां उठती है।
हर गावं शहर मे कुछ तथाकथित पत्रकार या समाचार पत्र मालिको ने कुछ लोगो को पैसे लेकर प्रेस कार्ड जारी कर रखे है जो पुलिस एवं टोलटेक्स नाको पर धोंस जमाते हैं. एेसे तथाकथित पत्रकारो से असली पत्रकार भी परेशान हो रहे है । पुलिस, प्रशासन एवं टोलटेक्स नाके वाले असली नकली मे फर्क नही कर पाते है। अब इस नियम के लागू होने पर तथाकथित फर्जी पत्रकारो से पुलिस प्रशासन पुछताछ कर उन सरगनाओ तक पहुचं सकेगी जिन्होने पैसे लेकर प्रेसकार्ड जारी कर रखे हैं.
केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय समाचार पत्र, पत्रिका के पंजीकरण के लिए आवेदक की शैक्षणिक योग्यता पत्रकारिता में डिग्री की शर्त को अनिवार्य करने जा रहा है।
समाचार पत्रों का प्रकाशन बंद कर सकती है केंद्र सरकार …
दैनिक समाचार पत्रों, न्यूज एजेंसियों व टीवी चैनल के रिपोर्टर के लिए संबंधित जिला मैजिस्ट्रेट की स्वीकृति उसकी पुलिस वैरीफिकेशन होने उपरांत जिला सूचना एवं लोक संपर्क विभाग द्वारा प्रेस कार्ड तथा प्रैस स्टीकर जारी किए जाने की प्रक्रिया को अंतिम रूप दिया जा रहा है। अन्य समाचार पत्र, पत्रिकाओं के प्रकाशक व संपादक का प्रैस कार्ड सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा जारी किया जाएगा। सरकारी तंत्र द्वारा जारी प्रेस कार्ड व प्रेस स्टीकर ही मान्य होंगे। केंद्र सरकार द्वारा उन समाचार पत्र व पत्रिकाओं का प्रकाशन बंद किया जा सकता है जिन्होंने पिछले तीन वर्ष से अपनी वार्षिक रिपोर्ट जमा नहीं करवाई।
प्रेस कार्ड बेचने वालों पर दर्ज होगा अपराधिक मामला …
चर्चा तो यह भी है कि किसी भी क्षेत्र से अपना प्रतिनिधि नियुक्त करने वाला दैनिक समाचार पत्र, न्यूज चैनल, न्यूज एजेंसीज को प्रतिनिधि नियुक्त करने के लिए जिला मैजिस्ट्रेट को आवेदन करना होगा, जो जिला सूचना व संपर्क अधिकारी की तस्दीक उपरांत स्वीकृति प्रदान करेंगे।
जिला सूचना व संपर्क अधिकारी अपनी रिपोर्ट में दर्शाएंगे कि अमूक दैनिक समाचार पत्र, न्यूज चैनल, न्यूज एजेंसीज को इस क्षेत्र से प्रतिनिधि की जरूरत है। संशोधित नियमावाली के चलते प्रैस कार्ड की खरीदों-फरोख्त तथा प्रैस लिखे वाहनों पर सरकारी तंत्र की नजर रहेगी। तथ्य पाए जाने उपरांत अपराधिक मामला कार्ड धारक, कार्ड जारी करने वाले हस्ताक्षर तथा प्रैस लिखे वाहन के मालिक पर दर्ज होगा। जाहिर है केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय की इस संभावित योजना पर अमल होने से पत्रकारिता का मानचित्र बदल जाएगा।
क्या कहती है पुलिस …
हम खुद प्रेस कार्ड वालो से परेशान है कैसे पता किया जाये की कौन सही पत्रकार है और कौन फर्जी इसके लिये जैसे ही आदेश आते है प्रेस लिखे सभी वाहनों की जाँच की जायेगी और जो भी सूचना जनसम्पर्क विभाग की लिस्ट मै नही होगा उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज होगा।