menubar

breaking news

Saturday, March 7, 2020

वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए जनऔषधि केंद्र के लाभार्थियों को संबोधित कर रहे प्रधानमंत्री

नई दिल्‍ली-प्रधानमंत्री शनिवार को जनऔषधि दिवस के मौके पर वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए जनऔषधि केंद्र के लाभार्थियों को संबोधित कर रहे हैैं। प्रधानमंत्री का संबोधन स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री जेपी नड्डा भी पूरे मनोयोग से सुन रहे हैं। प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में सबसे पहले जन औषधि केंद्रों की उपलब्‍धियां गिनाई और फिर असम के गुवाहाटी में मौजूद केंद्र के कार्यकर्ताओं से चर्चा की।प्रधानमंत्री ने कहा, भारतीय जनऔषधि परियोजना यानि PMBJP, इसी की एक अहम कड़ी है। ये देश के हर व्यक्ति तक सस्ता और उत्तम इलाज पहुंचाने का संकल्प है। मुझे बहुत संतोष है कि अब तक 6 हज़ार से अधिक जन औषधि केंद्र पूरे देश में खुल चुके हैं।'उन्‍होंने कहा, जनऔषधि परियोजना से पहले की तुलना में इलाज पर खर्च बहुत कम हो रहा है। अभी तक पूरे देश में करोड़ों गरीब और मध्यम वर्ग के साथियों को 2000-2500 करोड़ रुपए की बचत जन औषधि केंद्रों के कारण हुई है। जैसे-जैसे यह नेटवर्क बढ़ रहा है, वैसे ही इसका लाभ भी अधिक से अधिक लोगों तक पहुंच रहा है।आज हर महीने 1 करोड़ से अधिक परिवार इन जनऔषधि केंद्रों के माध्यम से बहुत सस्ती दवाइयां ले रहे हैं।'संबोधन की शुरुआत में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा,आप सभी को दूसरे जनऔषधि दिवस की बहुत-बहुत बधाई। आज सप्ताह भर से मनाए जा रहे जनऔषधि सप्ताह का आखिरी दिन है। इस प्रशंसनीय पहल के लिए भी आप सबका बहुत-बहुत अभिनंदन।प्रधानमंत्री ने कहा, इन केंद्रों को चलाने वाले साथियों को दिल से बधाई देता हूं। इन साथियों के लिए सरकार ने पुरस्‍कार की भी योजना बनाई है।' उन्‍होंने आगे कहा कि सबसे पहले असम में हमें गुवाहाटी जाना है। वहां उन्‍होंने केंद्र में मौजूद लोगों से बात की। भारत के 728 जिलों में से 700 जिले में जनऔषधि केंद्र शुरू किए गए हैं। फिलहाल,यहां 6200 जनऔषधि केंद्र हैं जहां से विभिन्‍न बीमारियों के लिए दवाएं व सर्जिकल औजार उपलब्‍ध कराए जाते हैं। 1 मार्च से 7 मार्च के बीच जनऔषधि सप्‍ताह मनाया जा रहा है।जनऔषधि दिवस के मौके पर इस योजना व केंद्रों पर मिलने वाले जेनरिक दवाओं के उपयोग के बारे में अवगत कराया जाता है। वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए प्रधानमंत्री मोदी आज चयनित दुकानों पर स्टोर मालिकों और लाभार्थियों के साथ बातचीत करेंगे। जेनरिक दवाएं यानि बिना किसी ब्रांड की दवाएं लेकिन पूरी तरह सुरक्षित और ब्रांडेड दवाओं की तुलना में सस्‍ती दवाएं।

No comments:

Post a Comment