menubar

breaking news

Friday, March 20, 2020

वी सी ने केमेस्ट्री विभाग एवं फार्मेसी संस्थान को दिया तुरंत सेनेटाइजर बनाने का निर्देश

जौनपुर- वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय के कुलपति सभागार में आज 20मार्च, 2020 को कुलपति प्रो0 डॉ राजाराम यादव की अध्यक्षता में कोरोना वायरस के संदर्भ में सावधानी एवं बचाव को लेकर एक आपात बैठक आहूत की गई।बैठक में कुलपति प्रो0 डॉ राजाराम यादव ने कोरोना वायरस के दृष्टिगत केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय, उच्च शिक्षा विभाग एवं राज्य सरकार द्वारा जारी एडवाइजरी का स्पष्ट रूप से पालन करने के निर्देश दिये। बैठक में कुलपति ने बताया कि 19मार्च, 2020 को शासन से  जारी दिशा-निर्देश के क्रम में विश्वविद्यालय 2 अप्रैल तक बंद रहेगा। जरूरी होने पर इस अवधि में किसी विभागाध्यक्ष, शिक्षक  एवं कर्मचारी  को आवश्यक कार्य से बुलाये जाने पर उसकी उपस्थिति अनिवार्य होगी। उक्त अवकाश की अवधि में कोई मुख्यालय से बाहर नही जायेगा। समस्त शिक्षक,कार्मिक अपने विभागाध्यक्ष,संकायाध्यक्ष,अधीक्षक,प्रभारी के संपर्क में रहेंगे। सम्पूर्ण विश्वविद्यालय परिसर की साफ-सफाई एवं सैनिटाइज करने की प्रक्रिया शुरू करने का निर्देश किया। इसी क्रम में उन्होंने सेनेटाइजर की मांग एवं बाजार में उसकी कमी को देखते हुए केमेस्ट्री विभाग  एवं फार्मेसी संस्थान को तत्काल सेनेटाइजर बनाने का निर्देश दिया।उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय के ये विभाग  सेनेटाइजर बना कर उसकी कमी को  पूरी करेंगे। सेनेटाइजेशन की इस प्रक्रिया के दौरान परिसर में छात्र-छात्राओं एवं आगन्तुकों का अनावश्यक अवागमन प्रतिबन्धित है। कुलपति ने स्पष्ट किया कि परिसर में किसी भी प्रकार का अवकाश घोषित नहीं किया जा रहा है, मात्र सुरक्षा एवं बचाव की दृष्टि से परिसर को सेनेटाइज करने के लिए विश्वविद्यालय परिसर में समस्त प्रकार के आवागमन को रोका जा रहा है। उन्होंने विश्वविद्यालय की वेबसाइट को अपडेट करते रहने का निर्देश दिया जिससे आनलाइन परीक्षा फार्म एवं एडमिशन सम्बन्धी प्रक्रिया में किसी को असुविधा न हो। इस अवसर पर कुलसचिव सुजीत कुमार जायसवाल ,वित्त अधिकारी एमके सिंह  परीक्षा नियंता बीएन सिंह, सहायक कुलसचिव अमृतलाल ,प्रो0 बीबी तिवारी , प्रो0 मानस पांडेय , प्रो अजय द्विवेदी, प्रो0 अशोक श्रीवास्तव , प्रो वंदना राय , प्रो विक्रम देव,प्रो देवराज सिंह, डॉ मनोज मिश्र , डॉ राजकुमार ,डॉ संतोष कुमार, डॉ रजनीश भास्कर डॉ रसिकेश,डॉ सौरभ पाल,डॉ अन्नू त्यागी,डॉ पूजा सक्सेना,डॉ अलोक दास,डॉ धर्मेंद्र सिंह,डॉ मनोज कुमार पांडेय सहित शिक्षकउपस्थित रहे।विश्वविद्यालय के रसायन विभाग एवं फार्मेसी संस्थान द्वारा  डब्लू एच ओ (WHO) के मानक अनुसार शिक्षक डॉ नितेश जायसवाल,  डॉ प्रमोद कुमार , डॉ मिथिलेश,डॉ राजीव कुमार,डॉ विजय मौर्य ,पूजा सक्सेना ,डॉ अलोक दास एवं डॉ झांसी मिश्रा ने इथनॉल तथा आइसोप्रोपिल युक्त सेनेटाइजर बनाया एवं कहा कि इथनॉल तथा आइसोप्रोपिल युक्त ये सेनेटाइजर करोना से लड़ने में सहायक होंगे। अभी काफी मात्रा में हैंड सेनेटाइजर का निर्माण किया जा रहा है। आज शुक्रवार को रसायन विभाग तथा फार्मेसी के शिक्षकों ने विभाग में निर्मित सैनिटाइजर को विश्वविद्यालय के कुलपति, प्रशासनिक अधिकारी , विभागाध्यक्ष, शिक्षकों तथा कर्मचारियों के बीच प्रदर्शित  तथा सेनेटाइज   किया ।

No comments:

Post a Comment