menubar

breaking news

Monday, March 2, 2020

सीएम योगी ने की पीएम की जमकर तारीफ,ग्रेटर नोएडा को मिली 2821 करोड़ की सौगात

नई दिल्ली- सीएम योगी आदित्यनाथ थोड़ी देर बाद 19 परियोजनाओं का उद्गाटन शिलान्यास करेंगे। सेक्टर-38 के बॉटेनिकल गार्डन में आयोजित कार्यक्रम में स्थानीय सांसद महेश शर्मा के संबोधन के बाद अब अंत में उन्होंने कहा कि पीएम हमेशा कहते हैं लोगों के लिए काम करो, जीवन सुलभ बनाओ। इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा कि मल्टीलेवल पार्किंग का लाभ लें सड़क पर कार चोरी हो सकती है। हमने 2821 करोड़ की योजनाओं का तोहफा दिया है।उन्होंने कहा कि बेहतर कानून व्यस्था पहले चैलेंज था स्मार्ट सिटी के लिए स्मार्ट पुलिस दी। कल कमिश्नरी कार्यालय का शुभारंभ किया। सीएम योगी ने यह भी कहा कि विकास की सकारात्क सोच का परिणाम जेवर एयरपोर्ट है, जेवर के एयरपोर्ट पर लाखों युवाओ को रोजगार मिलेगा।सीएम योगी बोले कि प्रदेश सरकार हर जनपद में युवाओं के लिए युवा हब बना रहे हैं और हर हब से 5 हजार युवाओं को जोड़ने का प्रयास है। अप्रेंटिस योजना में 2500 रुपये मासिक मानदेय देंगे।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सबको साथ लेकर आगे बढ़ रहे हैं और प्रधानमंत्री की स्मार्ट सिटी योजना का संकल्प पूरा हो रहा है। वहीं यूथ के लिए स्टार्टअप हब भी शुरू होने जा रहा है।तीन साल में लोगों का जीवन स्तर सुधारा और अब तीनों प्राधिकरण में ईमानदारी से काम हो रहा है।बायर्स पहले परेशान थे, तीन साल में 1 लाख 10 हजार। बबायर्स को मकान दिये।सीएम आगमन पर कड़ी सुरक्षा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सुरक्षा के मद्देनजर जीबीयू को छावनी में तब्दील कर दिया गया है। उनके पहुंचने से पहले ही पुलिसकर्मियों को ड्यूटी पर मुस्तैद कर दिया गया था। मुख्यमंत्री का काफिला रविवार रात जब जीबीयू परिसर में पहुंचा तो चारों तरफ सख्ती कर दी गई। सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मियों को सभ्रांत व्यक्तियों की एक सूची सौंप दी गई थी। सूची में जिन व्यक्तियों के नाम थे सिर्फ उन लोगों को ही मुख्यमंत्री से मिलने दिया गया। जो लोग मुख्यमंत्री से मिले उन लोगों की गाड़ियों को गेस्ट हाउस तक नहीं जाने दिया गया।मुख्यमंत्री के काफिले में तैनात सुरक्षाकर्मियों ने गेस्ट हाउस के आस-पास मोर्चा संभाल रखा था। इसके अलावा कई इंस्पेक्टर व थाना प्रभारी भी सुरक्षा में तैनात रहे। शहर के कई लोगों ने जीबीयू पहुंच कर मुख्यमंत्री से मिलने का प्रयास किया लेकिन सूची में नाम नहीं होने की वजह से उनको मिलने नहीं दिया गया। मुख्यमंत्री से मिलने वालों में मुख्य रूप से सेवानिवृत्त अधिकारी, उद्यमी व कुछ अन्य विशेष वर्ग के लोग शामिल रहे। सुरक्षा के मद्देनजर गेस्ट हाउस के आस-पास अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किया गया था।

No comments:

Post a Comment