menubar

breaking news

Monday, February 10, 2020

मुख्यमंत्री ने छात्रवृत्ति और शुल्क प्रतिपूर्ति की धनराशि लाभार्थियों के खातों में भेजने के निर्देश दिए हैं।

लखनऊ- बजट के अभाव में अन्य पिछड़ा वर्ग ओबीसी के छात्र-छात्राओं की शुल्क प्रतिपूर्ति अटक गई है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इतने अधिक संख्या में छात्र-छात्राओं की शुल्क प्रतिपूर्ति न हो
ने पर नाराजगी जताई है। मुख्यमंत्री ने छात्रवृत्ति और शुल्क प्रतिपूर्ति की धनराशि लाभार्थियों के खातों में भेजने के निर्देश दिए हैं। साथ ही तीन दिनों में रिपोर्ट पेश करने के लिए कहा है। इसमें किसी भी तरह की शिथिलता व लापरवाही पर कड़ी कार्रवाई की चेतावनी भी दी है।दरअसल, पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग में इस वर्ष अन्य पिछड़ा वर्ग के करीब 22 लाख छात्र-छात्राओं ने शुल्क प्रतिपूर्ति व छात्रवृत्ति के लिए आवेदन किया था। विभाग केवल 12 लाख छात्र-छात्राओं की ही शुल्क प्रतिपूर्ति कर सका है जबकि 10 लाख छात्र-छात्राएं वंचित रह गए हैं।यह दिक्कत इसलिए आई क्योंकि अन्य पिछड़ा वर्ग विभाग में छात्रवृत्ति व शुल्क प्रतिपूर्ति का बजट मद अलग-अलग हैं। दोनों में ही करीब 600-600 करोड़ रुपये का बजट आवंटित था। शुल्क प्रतिपूर्ति में इतने बजट से करीब 12 लाख छात्र-छात्राओं की ही शुल्क प्रतिपूर्ति हो सकी। जबकि छात्रवृत्ति के बजट से 20 लाख छात्र-छात्राओं को छात्रवृत्ति प्रदान की गई।

No comments:

Post a Comment