menubar

breaking news

Monday, February 24, 2020

दिल्ली विधानसभा का तीन दिवसीय सत्र सोमवार से शुरू हो गया है।

नई दिल्ली- दिल्ली विधानसभा का तीन दिवसीय सत्र सोमवार से शुरू हो गया है। विधानसभा सदन में नवनिर्वाचित विधायकों के स्वागत की तैयारी पूरी कर ली गई है।  प्रोटेम स्पीकर शोएब इकबाल को बनाया गया है। सबसे पहले CM अरविंद केजरीवाल को शपथ दिलाई जा रही है।मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के साथ उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, मंत्री गोपाल राय, सत्येंद्र जैन, इमरान हुसैन,राजेंद्र पाल गौतम व कैलाश गहलोत ने ली शपथ।सत्येंद्र जैन ने भगवान महावीर के नाम पर शपथ ली। अन्य सभी सदस्यों ने ईश्वर की शपथ ली।बुराड़ी विधानसभा सीट से आम आदमी पार्टी विधायक संजीव झा ने मैथिली भाषा में शपथ ली।रिठाला से विधायक महेंद्र गोयल ने ईश्वर, अल्लाह, गॉड व वाहे गुरु के नाम पर शपथ ली।इससे पहले भारतीय जनता पार्टी ने बदरपुर से विधायक राम वीर सिंह बिधूड़ी को विधायक दल के नेता चुना है।  वहीं, थोड़ी देर पहले ही सत्र में भाग लेने के लिए CM अरविंद केजरीवाल दिल्ली विधानसभा पहुंचे हैं।दोपहर के बाद विधानसभा के अध्यक्ष का चुनाव होगा। 25 फरवरी को उपराज्यपाल का भाषण होगा और 26 फरवरी को इस भाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव आएगा।दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल अपने भाषण में दिल्ली के विकास एवं सरकार की योजनाओं के बारे में अपने विचार रखेंगे। इसमें सरकार के अगले पांच साल की योजनाओं का खाका होगा। वहीं धन्यवाद प्रस्ताव में विधायक अपने-अपने विचार रखेंगे। इस दौरान आपसी सहमति से विधानसभा अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष का चुनाव होगा। दिल्ली विधानसभा में इस बार आम आदमी पार्टी (आप) के 62 और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के आठ विधायक हैं। कांग्रेस पार्टी का इस बार भी खाता भी नही खुल पाया है।दिल्ली विधानसभा की कमान फिर से शाहदरा से निर्वाचित विधायक राम निवास गोयल को मिलने जा रही है। गोयल का नाम फाइनल हो गया है। गोयल के साथ विधानसभा के उपाध्यक्ष का पद फिर से राखी बिड़ला को दिया जाएगा। हालांकि इसके लिए विधानसभा में चुनाव की प्रक्रिया अपनाई जाएगी मगर इस पद के लिए केवल गोयल और राखी बिड़ला का ही नामांकन हुआ है। रामनिवास गोयल आम आदमी पार्टी की सरकार के पिछले कार्यकाल में भी दिल्ली विधानसभा के अध्यक्ष रहे हैं। पिछले पांच साल में उन्होंने विधानसभा में बहुत से कार्य करवाए हैं। उनके कार्यकाल में क्रांतिकारियों की गैलरी बनवाई और शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु की प्रतिमाओं को लगवाने का काम किया गया। दिल्ली विधानसभा में रिसर्च सेंटर बनाया गया।

No comments:

Post a Comment