menubar

breaking news

Monday, July 9, 2018

एक बार यमराज को भी धोखा दे चुका था मुन्ना बजरंगी , मुन्ना को मुन्ना के ही फिल्मी स्टाइल से जेल में मार गिराया गया

जौनपुर- इण्टरस्टेट गैंग नम्बर 233 के सरगना और उस समय के पांच लाख रुपये के इस इनामी मुन्ना बजरंगी को दिल्ली और यूपी पुलिस की सयुंक्त टीम ने समयबादली थाना क्षेत्र में 11 सितम्बर 1998 को एक मुठभेड़ में मार गिराने का दावा किया था। मुन्ना की मौत की खबर भी प्रसारित हो गयी। पर अस्पताल पहुंचा तो उसकी सांसें चलती मिली। 
जब पुलिस मुठभेड़ में उसके मारे जाने की खबर आयी तो लोगों ने राहत की सांस ली, लेकिन राममनोहर लोहिया अस्पताल पहुंच कर जब उसने आंखें खोल दी तब उसके शातिर होने का लोगों को अहसास हुआ, और दर्जनों गोली लगी होने के बाद भी मुन्ना उस समय मौत को मात देने में कामयाब रहा था

No comments:

Post a Comment