menubar

breaking news

Friday, June 29, 2018

सामूहिक दुष्कर्म के बाद भी मिली धमकी कि मुकदमा नहीं उठाया तो नहीं बचेगी घर की किसी महिला की इज्जत

दुष्कर्म के मुकदमे में सुलह न करने पर सामूहिक दुष्कर्म!
पीड़िता की मां की दरखास्त पर कोर्ट ने ठेकेदार समेत तीन पर प्राथमिकी दर्ज करने का दिया आदेश.
जौनपुर-मीरगंज थाना क्षेत्र निवासी नाबालिग लड़की से दुष्कर्म करने  के मामले में सुलह न करने पर आरोपी ठेकेदार व दो अन्य पर सामूहिक दुष्कर्म का आरोप लगाते हुए पीड़िता की मां ने कोर्ट में दरखास्त दिया।सीजेएम ने थानाध्य्क्ष मीरगंज को आदेश दिया कि 24 घंटे में आरोपियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर विवेचना करें।

नाबालिग लड़की की मां ने कोर्ट में धारा 156(3) के तहत दरखास्त दिया कि उसकी लड़की को 7 मई 2017 को आरोपी ठेकेदार रोहित अपहरण कर ले गया और उसके साथ दुष्कर्म किया।यह मुकदमा कोर्ट में विचाराधीन है।इसी मुकदमे में सुलह के लिए आरोपी रोहित व अन्य आरोपी दबाव डाल रहे थे, डराते धमकाते रहते थे। जिसके संबंध में वादिनी ने उच्चाधिकारियों को प्रार्थना पत्र भी दिया। 22 मई 2018 को 7:00 बजे शाम जब उसकी लड़की शौच के लिए गई तो रोहित व अन्य आरोपियों ने उसे दबोच लिया।रोहित ने गालियां देते हुए कहा कि मुकदमा उठाने के लिए समझाया तो नहीं मानी।अब अंजाम भुगतो।यह कहते हुए आरोपियों ने वादिनी की लड़की के साथ साथ सामूहिक दुष्कर्म किया। जान से मारने की धमकी देते हुए चले गये।बेटी की हालत बहुत खराब हो गई।घटना के बाद भी एक आरोपी धमका रहा था कि मुकदमा नहीं उठाओगी तो घर की किसी महिला की इज्जत नहीं बचेगी।थाना,कचहरी खरीद लेंगे।घटना से वादिनी, उसकी लड़की व पूरा परिवार अत्यंत डरा सहमा है।पुलिस के उच्चाधिकारियों व मुख्यमंत्री को भी दरखास्त दी गई लेकिन आरोपियों के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं हुई।कोर्ट ने प्रथम दृष्टया गंभीर मामला पाते हुए प्राथमिकी का आदेश दिया।

No comments:

Post a Comment