menubar

breaking news

Wednesday, April 11, 2018

किसानों के खाते में आरटीजीएस के माध्यम से 72 घण्टे में होगा भुगतान - जिलाधिकारी

VPISजौनपुर। जिलाधिकारी अरविन्द मलप्पा बंगारी की अध्यक्षता में आज कलेक्ट्रेट सभागार में पूर्वान्ह 10 बजे गेंहूॅ खरीद की समीक्षा बैठक सम्पन्न हुई। जिलाधिकारी पूछे जाने पर जिला खाद्य विपणन अधिकारी महेश कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि 10 अप्रैल 2018 तक 872 मी.टन गेहूं की खरीद हो चुकी है। जिलाधिकारी ने कहा कि शासन के निर्देश के विपरीत खरीदारी करने वाले क्रय केन्द्रों के विरुद्ध एफआईआर कराते हुए रिकवरी भी कराई जायेगी। उन्होंने कहा कि किसानों के खाते में आरटीजीएस के माध्यम से 72 घण्टे में भुगतान किया जायेगा। सभी इलेक्ट्रानिक काटे सही होने चाहिए तथा हर केन्द्र पर छाया एवं पानी की व्यवस्था होनी चाहिए। उन्होंने बताया कि गेहूं क्रय की अवधि 1 अप्रैल से 15 जून तक 9 बजे से सायं 6 बजे तक किया जायेगा। कृषको को सुविधा के दृष्टिगत राजपत्रित अवकाशों व रविवार को छोड़कर क्रय केन्द्र खुले रहेंगे। समर्थन मूल्य रु0 1735/प्रति कुं0 एवं 10 रु0/प्रति कुं0 उतराई, छनाई कुल रु0 1745/प्रति कुं. है। उन्होंने बताया कि जनपद का कुल लक्ष्य 62000 मी0टन है, जिसमें खाद्य विभाग 12500 मी.टन, पीसीएफ 24300 मी.टन., यूपीएग्रो, 1300 मी.टन, पीसीयू 7100 मी.टन. कर्मचारी कल्याण निगम 3000 मी.टन, एनसीसीएफ 4800 मी.टन, नैफेड 6000 मी.टन. भारतीय खाद्य निगम का 3000 मी.टन का लक्ष्य है जिसमें 8 क्रय संस्थानों के माध्यम से कुल 129 क्रय केन्द्र खोले गये है। जिन किसानों का धान खरीद में रजिस्ट्रेशन हुआ है, उनको गेहूं में रजिस्ट्रेशन कराने की जरुरत नहीं है शेष किसानों को खाद्य विभाग की बेवसाइट एफसीएस डाट यूपी डाट एनआईसी डाट इन पर पंजीकरण कराना होगा, जो किसी भी जनसेवा केन्द्र/साइबर कैफे से करा सकते है। 
किसान को गेहूं के साथ खतौनी/चकबन्दी ग्रामों का भू-विवरण अभिलेख, बैंक पासबुक की प्रथम पृष्ठ की छायाप्रति, पहचान पत्र तथा पंजीकरण प्रपत्र क्रय केन्द्र पर लाना होगा। यथासंभव किसानों से खसरा भी लिया जायेगा, यदि खसरा उपलब्ध नहीं है तो सम्बन्धित किसान से अपने उपज एवं बिक्री के सम्बन्ध में प्रमाण पत्र लिया जाना अनिवार्य है। खरीद का विवरण केन्द्र प्रभारी को अपनी यूजर आईडी पर आंनलाइन दर्ज करना होगा। यदि किसान केन्द्र पर गेहूं लेकर आ जाता है और उसका आॅनलाइन रजिस्ट्रेशन नहीं है तो मौके पर उसका रजिस्ट्रेशन करते हुए खरीद कर ली जायेगी। आंनलाइन के साथ-साथ आफलाइन खरीद की भी व्यवस्था रहेगी, परन्तु आफलाइन खरीद को केन्द्र प्रभारी 24 घंटे के अन्दर आनलाइन फीडिंग करना होगा। उन्होंने बताया कि कोई भी किसान भाई अपना गेहूं विक्रय कर सकता है। गेहूं की खरीद सीधे किसानों से केन्द्र पर की जायेगी। किसी भी दशा में कोई भी केन्द्र प्रभारी किसानों को बोरा नहीं बांटेगा। सप्ताह में दो दिन लघु एवं सीमान्त किसानों को गेहूं बेचने के लिए जिसमें मंगलवार व शुक्रवार को आरक्षित रहेंगा। 
बैठक में जिलाधिकारी अरविन्द मलप्पा बंगारी ने कहा कि मण्डी समिति द्वारा उपलब्ध कराये जाने वाले किसी भी यंत्र के खराब होने अथवा अनुपयोगी होने की स्थिति में सम्बन्धित केन्द्र प्रभारी 24 घंटे के अन्दर इसकी लिखित व एसएमएस के माध्यम से सूचना सचिव मण्डी समिति को देगा तथा सचिव मण्डी समिति द्वारा 24 घंटे के अन्दर इसकी वैकल्पिक व्यवस्था की जायेगी। गेहूं की गुणवत्ता मानक के अनुरुप नहीं है व कृषक संतुष्ट नही है तो वह तहसील स्तर पर कार्यरत क्षेत्रीय विपणन अधिकारी के यहां उसकी अपील कर सकता है क्षेत्रीय विपणन अधिकारी की अध्यक्षता में मण्डी सचिव, केन्द्र प्रभारी, दो स्वतंत्र किसान की समिति 48 घंटे के अन्दर कृषक के सम्मुख विश्लेषण कर निर्णय लेगा। 

No comments:

Post a Comment