menubar

breaking news

Wednesday, March 28, 2018

प्रयोगशालाओं के भीतर हो रहे शोधों को आम लोगों तक ले जाने की जरुरत

Image result for images of purvanchal universityजौनपुर। प्रयोगशालाओं के भीतर हो रहे शोधों को आम लोगों तक ले जाने की जरुरत है। इस कार्य को करने के लिए वैज्ञानिकों को विज्ञान संचार में दीक्षित होना जरुरी है।  इसलिये उन्हे प्रशिक्षण दिलाये जाने की पहल उच्च शिक्षा संस्थानों द्वारा की जानी चाहिए। उक्त विचार भारत के सुप्रसिद्ध लोकप्रिय विज्ञान लेखक और शिक्षक शुकदेव प्रसाद और लोकप्रिय विज्ञान कथाकार डॉ अरविन्द मिश्र ने पूर्वांचल विश्वविद्यालय के अतिथिगृह में  एक संयुक्त वक्तव्य के रुप में व्यक्त किया। शुकदेव प्रसाद विश्वविद्यालय में एक शिक्षण-प्रशिक्षण  कार्य हेतु आये हुए हैं।
उन्होंने कहा कि भारत एक लोकतांत्रिक देश है, यहां टैक्स देने वाली जनता को पूरा अधिकार है कि वह जान सके कि प्रयोगशालाओं में हो रहे शोध का उनके जीवन पर क्या प्रभाव पड़ने वाला है। अभी हाल ही में मणिपुर में सम्पन्न भारतीय विज्ञान कांग्रेस में प्रधानमंत्री ने इस बात पर बल दिया था कि वैज्ञानिक शोधों का फायदा आम लोगो और किसानों तक पहुंचाना हमारी एक बड़ी प्राथमिकता है। 
भारत के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग ने भी ऐसे प्रशिक्षण कार्यक्रमों में रुचि दिखाई है जिनमें देश के प्रख्यात विज्ञान संचारकों द्वारा वैज्ञानिकों को जनभाषा में विज्ञान संचार का प्रशिक्षण दिलाया जा सके। ऐसे प्रशिक्षण कार्यक्रम में पूर्वांचल के शोधार्थी भी लाभान्वित हो सकते हैं। विज्ञान संचारक द्वय ने यह आशा व्यक्त की है कि पूर्वांचल विश्वविद्यालय इस मुहिम में आगे आयेगा।

No comments:

Post a Comment