menubar

breaking news

Friday, March 23, 2018

नए उद्यम की शुरुआत करने से पहले हमें स्वयं का आकलन करना चाहिए- उमेश

Image result for images of purvanchal universityउद्यमियों ने भी विद्यार्थियों से किया सीधा संवाद
छात्रों में से चिन्हित हुए भावी उद्यमी

जौनपुर। वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय के विश्वेश्वरैया सभागार में तकनीकी शिक्षा गुणवत्ता उन्नयन कार्यक्रम के अंतर्गत चल रहे स्टार्टअप एवं उद्यमिता विषयक दो दिवसीय ओरिएंटेशन कार्यक्रम का शुक्रवार को समापन हुआ। यह कार्यक्रम उद्यमिता विकास संस्थान लखनऊ के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित किया गया था। दूसरे दिन उद्यमियों ने  भी विद्यार्थियों से सीधा संवाद स्थापित किया।
बतौर मुख्य वक्ता वाराणसी मंडल के संयुक्त आयुक्त उद्योग उमेश कुमार सिंह ने कहा कि योजना बनाकर प्रयास करने से निश्चित रूप से सफलता मिलती है। किसी नए उद्यम की शुरुआत करने से पहले हमें स्वयं का आकलन करना चाहिए। उन्होंने कहा कि देश के बड़े उद्यमी जीरो से हीरो बने है उनसे हमें सीख लेनी चाहिए। उन्होंने ऐमज़ॉन व फ्लिपकार्ट जैसी वेबसाइटों के विकास यात्रा पर भी अपनी बात रखी। टेकिप  के समन्वयक प्रोफेसर बीबी तिवारी ने विषय प्रवर्तन किया। कार्यक्रम में दूसरे दिन स्टार्ट अप की शुरुआत करने वाले तीन उद्यमियों ने भी विद्यार्थियों से संवाद किया। काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के मालवीय उद्यमिता संवर्धन केंद्र  से जुड़े यंग स्केल इंडिया के नीरज श्रीवास्तव, रोज हब की मेघना एवं कुबेर पटेल ने अपने उद्यम व अनुभवों को साझा किया। उन्होंने विद्यार्थियों को अपना उद्योग लगाने के लिए प्रोत्साहित भी किया। उद्यमिता विकास संस्थान लखनऊ की प्रोफेसर विभा त्रिपाठी में उद्यमी बनने के लिए विद्यार्थियों को टिप्स दिए। वहीं प्रोफेसर एम  के सिंह ने स्टार्टअप के विभिन्न आयामों पर अपनी बात रखी। प्रोफेसर आर बी मिश्रा ने उत्तर प्रदेश के उद्योगों पर विस्तार से चर्चा की। उन्होंने कहा कि प्रदेश में उद्योग लगाने के लिए तमाम संभावनाएं है।
दो दिवसीय ओरिएंटेशन कार्यक्रम के अंतर्गत विशेषज्ञों द्वारा विद्यार्थियों के प्रस्तुतीकरण, लक्ष्य और योजना का विश्लेषण कर भावी उद्यमियों को चिन्हित किया गया। इसमें भूपेंद्र कुमार, वागेश कुमार, संजीव गुप्ता, छोटे लाल, वीर सिंह और रूपशंकर मिश्रा शामिल रहे।इन छात्रों को प्रशिक्षण के लिए देश के विभिन्न उद्यमिता सस्थानों में भेजा जायेगा। कार्यक्रम का संचालन स्टार्टअप की सह समन्वयक ज्योति सिंह ने किया। आभार स्टार्टअप समन्वयक डॉ रजनीश भास्कर ने व्यक्त  किया।

No comments:

Post a Comment