menubar

breaking news

Tuesday, February 20, 2018

मानसिक एवं शारीरिक रूप से विक्षिप्त बच्चों की सेवा ईश्वर की सच्ची सेवा हैः डा. नजर

मानसिक एवं शारीरिक रूप से विक्षिप्त बच्चों की सेवा ईश्वर की सच्ची सेवा है। तीर्थयात्राओं व हज के फेरों का महत्व अपनी जगह है लेकिन विक्षिप्त बच्चों के चेहरे पर खुशियां बिखेरना उससे बड़ी पूजा है। उक्त बातें सद्भावना क्लब के अध्यक्ष डा. अलमदार नजर ने रासमण्डल में स्थित रचना विशेष विद्यालय के प्रांगण में मौजूद मूकबधिर बच्चों सहित अन्य लोगों के बीच कही। इस दौरान क्लब द्वारा बच्चों को लंच पैकेट, चाकलेट, टाफी आदि दी गयी। इसी क्रम में निदेशक नसीम अख्तर ने बताया कि इस समय लगभग 100 बच्चे विद्यालय में शिक्षारत हैं जिन्हें सामान्य व्यक्ति जैसा बनाने का भरपूर प्रयास किया जा रहा है। इसके अलावा प्रधानाचार्य छोटे लाल यादव सहित अन्य वक्ताओं ने अपना विचार व्यक्त किया। इस अवसर पर गणेश साहू, सुधीर मौर्य, जाकिर वास्ती, ऋषिकेश दुबे, लालजी यादव, समीउल्ला खान, आशीष गुप्ता सहित तमाम लोग उपस्थित रहे। अन्त में कार्यक्रम संयोजक नरसिंह अवतार जायसवाल ने विद्यालय के समस्त स्टाफ सहित उपस्थित सभी लोगों के प्रति आभार व्यक्त
 

4 Attachments

No comments:

Post a Comment