menubar

breaking news

Tuesday, February 20, 2018

झारखंड: मां-बेटी के कपड़े उतरवाए, पेशाब पिलाया

 वहाँ हमारे कपड़ों पर इंसानी मल और पेशाब फेंका. फिर हमारे मुँह में भी डाल दिया. उन लोगों ने कुदाल देकर हमीं से मिट्टी कटवाई. उनके साथ नाई भी था. उससे हमारा मुंडन करा दिया. हमारे कपड़े खुलवा दिए. इसके बाद हमें पहनने के लिए सफ़ेद साड़ी दी लेकिन ब्लाउज और पेटीकोट नहीं दिया. सिर्फ साड़ी से हमने अपना शरीर ढंका.हमें उन्हीं कपड़ों में पूरे गाँव में घुमाया गया. तब तक बहुत लोगों की भीड़ जमा हो गई, लेकिन कोई हमें बचाने नहीं आया. बाद में उनलोगों ने हमें हमारे घर छोड़ दिया."एतवरिया देवी (बदला हुआ नाम) यह कहते हुए पसीने से तर-बतर हो जाती हैं. वे रांची से करीब 60 किलोमीटर दूर सोनाहातू थाने के बोंगादार दुलमी गांव में रहती हैं. गांव वालों ने उन्हें डायन करार देकर मैला पिलाया, इस कारण वो इन दिनों चर्चा में हैं.
हम लोग अपने घर में थे. तभी मेरे भैयाद (पट्टीदारी) के लोग घर का दरवाज़ा पीटने लगे. इन लोगों ने हम माँ-बेटी पर डायन होने का आरोप लगाया. हमारे मना करने के बावजूद वे लोग हम दोनों को श्मशान घाट ले गए.


No comments:

Post a Comment