menubar

breaking news

Thursday, January 4, 2018

हाइवे की धूल से नासाज हो रहा है ताजमहल



आगरा -ऐसे ही अगर चलती चलती अंधाधुंध खुदाई तो आने वाले कुछ ही समय में ताजमहल की खूबसूरती पर सिर्फ और सिर्फ मिट्टी के धुल ही दिखाई देंगे। ताज को नासाज कर रही हाईवे की आगरा  ताजमहल के संरक्षण को लेकर सुप्रीम कोर्टए एनजीटीए केंद्र व राज्य सरकारें जितनी संजीदा हैंए उतनी ही लापरवाह स्थानीय अफसरशाही। यह तथ्य साफ हो चुका है कि धूल के कण ताज को नासाज कर रहे हैं। इन्हें नियंत्रित किया जाना चाहिए। उसके बावजूद नेशनल हाईवे चौड़ीकरण में हो रही दनादन खोदाई के चलते दिनभर धूल के गुबार उड़ रहे हैं और इसे नियंत्रित करने के उपायों पर भी ध्यान नहीं दिया जा रहा। धूल के चलते ही आगरा में वायु प्रदूषण तेजी से बढ़ा है। देश के प्रभावित शहरों की टॉप सूची में पहुंच चुका है।


.आगरा नेशनल हाईवे का चौड़ीकरण नवंबरए 2012 से चालू हुआ था। चौड़ीकरण मार्चए 2016 तक पूरा होना थाए लेकिन शुरू से ही सिक्स लेन के कार्य में लापरवाही बरती गई। भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण एनएचएआइद्ध की गलती का खामियाजा स्थानीय नागरिक भुगत रहे हैं। वायु प्रदूषण खतरनाक स्तर पर पहुंच चुका है। खासतौर पर कोहरे के चलते धूल के कण वायुमंडल में निचली सतह पर ही जमा हो रहे हैं। हाईवे निर्माण में इंडियन रोड कांग्रेस की गाइड लाइन का पालन नहीं किया जा रहा है। कार्य की धीमी रफ्तार के चलते प्रोजेक्ट के पूरा होने की अंतिम तारीख सितंबरए 2017 कर दी गई। जिसे अब बढ़ाकर वर्ष 2018 कर दिया गया है। फिर भी अभी तक 82 फीसद काम हो पाया है। सिकंदरा से गुरु का ताल तक दोनों लेन पर खोदाई चल रही है। इससे संकरी हुई रोड पर दिनभर जाम के हालात हैं। खोदाई के दौरान संरक्षा के इंतजाम नहीं किए गए हैं। जगह.जगह मिट्टी के ढेर लगे हैं। वाहनों की आवाजाही से दिनभर धूल उड़ती रहती है।

No comments:

Post a Comment