menubar

breaking news

Saturday, January 20, 2018

बेटी का कन्यादान करने आना था घर ,उससे पहले पिता शहीद की अर्थी आ गयी घर।:परिजनों का रो- रो कर बुरा हाल

 बुलंदशहर - पाकिस्तान ने शुक्रवार को सीजफायर उल्लंघन कर जम्मू कश्मीर के सांबा, कठुआ, नौशेर और राजौरी सेक्टर में भारी गोलाबारी शुरू कर दी थी। गोलाबारी में बुलंदशहर के जगपाल सिंह भी शहीद हो गए। शहीद के बेटे ने पीएम नरेंद्र मोदी से अपने पिता की शहादत का बदला लेने की मांग की है। परिजनों ने कहा, ''जब तक सीएम योगी शहीद के गांव नहीं आएगें, तब तक अन्तिम संस्कार नहीं करेगें। बता दें कि योगी सरकार ने आर्थिक मदद के रूप में 25 लाख रूपए देने की घोषणा की है।
बेटी की शादी में आना था घर...
- बुलंदशहर के सलेमपुर थाना क्षेत्र गांव भैसरोली नासिरपुर निवासी जगपाल (53) बीएसएफ की 173 बटालियन में जवान थे। इन दिनों उनकी तैनाती जम्मू-कश्मीर के सांबा सेक्टर में थी।
- शुक्रवार शाम को परिजनों को बीएसएफ मुख्यालय से आए फोन पर सूचना दी गई कि मुठभेड़ के दौरान एक गोली लगने से जगपाल शहीद हो गए। पत्नी करतारी देवी और अन्य परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल हो गया।
- शहीद होने की घटना को लेकर का पता चलने पर सैकड़ों ग्रामीण भी घर के बाहर एकत्र हो गए और पीड़ित परिजनों को सांत्वना देने लगे।
- शहीद के बेटे गौरव ने कहा, ''फोन पर पिता के शहीद होने की सूचना दी गई है। बताया गया कि पार्थिव शरीर शनिवार शाम तक गांव में आने की उम्मीद है। मेरे अलावा घर में 3 बहनें और मां हैं।''
- शहीद के भतीजे राहुल कुमार ने कहा, ''चाचा जगपाल 19 जनवरी से छुट्टी ली थी। 20 जनवरी को छुट्टी पर घर आने वाले थे, लेकिन पाकिस्तान की तरफ से हुए सीजफायर उल्लंघन में शहादत की खबर ही घर पहुंची है।''
CM के आने पर होगा अंतिम संस्कार
- शहीद के छोटे भाई रामसिहं और बेटा गौरव ने बताया कि टीवी के माध्यम से नेताओं और प्रशासन को शहादत की खबर मिल गई थी। लेकिन उन्हे सांतवना देने के लिए बीजेपी के क्षेत्रीय सांसद डॉ. भोला सिंह व विधायक अनिल शर्मा अभी तक घर नहीं पहुंचे।
- जिससे नाराज होकर परि‍जनों ने सीएम योगी के आने तक शहीद का अन्तिम संस्कार न करने का ऐलान कर दिया है।

No comments:

Post a Comment