menubar

breaking news

Wednesday, November 8, 2017

मजिस्ट्रेट ने बीएचयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष एवं वरिष्ठ कांग्रेसी नेता को भेजा जेल

जौनपुर। दीवानी न्यायालय के मजिस्ट्रेट ने 38 साल पुराने एक मामले में बीएचयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष एवं फ्रीलांसर कांग्रेस के वरि० नेता को आज जेल भेज दिया है।
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार सन् 1982 मे महराजगंज के वीडीओ पद पर तैनात रहे आई ए एस टी डी गौर ने थाना बदलापुर में मु० अ० सं० 66 /82 से एक मुकदमा धारा 353 का पंजीकृत कराया था जिसमें गाली गलौज देने व सरकारी काम में बाधा उत्पन्न करने का आरोप लगाया था।
सूत्रों की मानें तो घटना के समय पुलिस द्वारा चार्ज सीट दाखिल करने के बाद न्यायालय उपस्थित होकर जमानत कराने के बाद चंचल कोर्ट नही गये जिसके कारण 15 जून सन् 1984 को कोर्ट ने उनका बेल बांड निरस्त कर उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट फिर कुर्की  82-83 का आदेश कर दिया था, जिसका अब तक अनुपालन न होने पर कोर्ट ने अपना कड़ा रूख अख्तियार किया तब थाना बदलापुर की पुलिस ने आज गिरफ्तारी कर न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया। चंचल सिंह ने अपने अधिवक्ता के जरिये न्यायालय में वारन्ट रिकाल करने का प्रार्थना पत्र दिया लेकिन मजिस्ट्रेट ने रिकाल प्रार्थना पत्र निरस्त कर पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष व कांग्रेस के वरि० नेता चंचल सिंह को जेल भेज दिया है उनके अधिवक्ता दुष्यन्त सिंह ने  जमानत की याचिका दायर किया जिस पर मजिस्ट्रेट ने 9 नवम्बर 17 की तिथि लगा दिया है।

No comments:

Post a Comment