menubar

breaking news

Tuesday, November 7, 2017

पूर्वांचल विश्वविद्यालय में ड्रोन उड़ाकर समझायी गयी तकनीकी

Image result for PICS OF PURVANCHAL UNIVERSITY
जौनपुर। वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय के उमानाथ सिंह इंजीनियरिंग संस्थान में प्रथम वर्ष के विद्यार्थियों के लिए कुम्हार द्वारा चाक पर मिट्टी के बर्तन बनाने की कला प्रदर्शित की गई। विद्यार्थियों ने भी अपने हाथों से कई मिट्टी के बर्तन बनाएं और इस कला से रूबरू हुएl
तकनीकी शिक्षा गुणवत्ता उन्नयन कार्यक्रम के अंतर्गत आयोजित इस कला के प्रदर्शन का उद्देश्य आज की पीढ़ी को अपनी विरासत जोड़  रखना था। 
कुम्हार विजयशंकर एवं सुनील कुमार ने मैकेनिकल वर्कशॉप के बाहर मेटी, गुल्लक, गमला,  कुल्हड़, घड़ा आदि निर्मित कर दिखाया। विद्यार्थी अपने हाथों से बर्तन बनाकर काफी खुश दिखे। इस अवसर पर इंजीनियरिंग संकाय के प्रोफेसर बी. बी. तिवारी ने कहा आज समाज में प्लास्टिक का प्रचलन तेजी से बढ़ गया है, जो मानव के साथ-साथ पशु पक्षियों के लिए भी घातक हो गया हैl उन्होंने कहा विद्यार्थी अपने कौशलता के माध्यम से मिट्टी के उत्पादों को राष्ट्रीय स्तर तक पहुंचा सकते हैंl
विश्वेसरैया हॉल में विशेष व्याख्यान का आयोजन किया गया जिसमें इलाहाबाद विश्वविद्यालय के पूर्व प्रोफेसर सी.के. द्विवेदी ने इमबेडेड सिस्टम पर अपना व्याख्यान दियाl उन्होंने इमबेडेड तकनीकी से बने ड्रोन को उड़ा  दिखाया। वही इंजीनियरिंग संस्थान में आयोजित रंगोली प्रतियोगिता में 8 टीमों ने भाग लिया जिसमें पर्यावरण संरक्षण, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ ,सोशल मीडिया आदि विषयों पर रंगोली के माध्यम से अपनी सृजन क्षमता प्रदर्शित की। इस प्रतियोगिता में मोनिका पाल प्रथम, निधि यादव द्वितीय और काजल चौबे की टीम तृतीय स्थान प्राप्त किया। 

No comments:

Post a Comment