menubar

breaking news

Wednesday, November 8, 2017

एनजीटी ने नई दिल्ली में फैले प्रदूषण को लेकर तत्काल प्रभाव से निर्माण कार्य रोकने का दिया आदेश

Image result for images of delhi me smogनई दिल्ली। दिल्ली-एनसीआर में फैले प्रदूषण को लेकर एनजीटी में चल रही बहस के दौरान ट्रिब्यूनल ने दिल्ली सरकार समेत तमाम पक्षों को कड़ी फटकार लगाते हुए बड़ा आदेश जारी करते हुए तत्काल प्रभाव से निर्माण कार्य रोकने का आदेश दे दिया है।
हालांकि इसके साथ ही साथ कोर्ट ने यह भी स्पष्ट कर दिया है कि निर्माण कार्य तो बंद होंगे ‌लेकिन उन साइटों पर काम कर रहे मजदूरों को उनकी मजदूरी मिलती रहेगी, उनकी मजदूरी नहीं रोकी जाएगी।
इसके साथ ही ट्रिब्यूनल ने दिल्ली सरकार को कड़ी फटकार लगाते हुए पूछा कि आखिर आपने अब तक हेलिकॉप्टर से पानी का छिड़काव क्यों नहीं किया। आप लोगों की सेहत के साथ ऐसा खिलवाड़ कैसे कर सकते हैं।
दिल्ली-एनसीआर में स्मॉग का कहर आज भी जारी है। जहरीली हवा से जहां लोगों का सांस लेना भी मुश्किल हो रहा है, वहीं दिल्ली आने वाली 41 ट्रेनें लेट हैं और 10 ट्रेनें कैंसिल की गई हैं।
मालूम हो कि इस वक्त दिल्ली के कई अलग-अलग इलाकों में हवा की गुणवत्ता बेहद चिंताजनक है। एयर क्वालिटी इंडेक्स के अनुसार पंजाबी बाग (799) सबसे ऊपर है, उसके बाद आनंद विहार (515), शादीपुर डिपो (362) और द्वारका (388) है।
सूत्रों की मानें तो राजधानी की आबोहवा दूषित होने के बाद इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) ने स्वास्थ्य आपातकाल घोषित कर दिया है। साथ ही मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से दिल्ली और एनसीआर को अगले तीन दिन तक बंद रखने की मांग भी की है।
आईएमए अध्यक्ष डॉ. केके अग्रवाल ने बताया कि घर में रहते हुए कोई भी इंसान प्रति मिनट 6 लीटर हवा अपने अंदर लेता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) भी इससे सहमत है। घर से बाहर निकलते ही शारीरिक गतिविधि बढ़ने से इंसान प्रति मिनट 20 लीटर हवा को श्वास के जरिये ग्रहण करने लगता है।

No comments:

Post a Comment