menubar

breaking news

Saturday, October 14, 2017

किसानों की फसल बनी अगैती प्रजाति का गन्ना

vptकृषक कृषि के माध्यम से स्वयं के साथ-साथ देश को भी विकसित करने का कर रहा कार्य 
जौनपुर। सम्भागीय विख्यापन अधिकारी परिक्षेत्र-फैजाबाद के निर्देशानुसार जिला गन्ना अधिकारी हुदा सिद्दीकी ने बताया कि हमारा देश एक कृषि प्रधान देश है, आज के वैष्वीकरण के इस दौर में भी मनुष्य के आजीविका का मुख्य स्रोत कृषि है। कृषक कृषि के माध्यम से स्वयं के साथ-साथ देश को भी विकसित करने का कार्य कर रहा है। कृषि में गन्ने का महत्वपूर्ण योगदान है। उत्तर प्रदेश में गन्ना आधारित उद्योग सर्वोपरि है। वर्तमान समय में गन्ना कृषकों द्वारा नवीनतम अगैती प्रजातियों को अधिक से अधिक बुवाई की जा रही है जिससे चीनी पर्ता में वृद्धि के साथ-साथ चीनी का अधिक उत्पादन भी हो रहा है। 
गन्ना विकास विभाग के अथक प्रयास के कारण पिछले दो वर्षों में उन्नतिशील अगैती प्रजाति के गन्नें की बुवाई वैज्ञानिक विधि से किये जाने पर जोर दिया जा रहा है जिसमें ट्रेन्च का विशेष योगदान है। सिंगल बड तकनीकी अपनाने के लिए किसानों को गोष्ठियों और सामूहिक सभाओं के माध्यम से जागरूक किया जा रहा है। सिंगल बड की बुवाई से प्रति हेक्टेयर गन्ना बीज के लागत में कमी आयेगी। उन्होंने बताया कि सम्भागीय विख्यापन अधिकारी व गन्ना आयुक्त के निर्देश पर अस्वीकृत प्रजाति की बुवाई को समाप्त करके अगैती और स्वीकृत प्रजातियों को नये तकनीकि से बुवाई करने के लिए गोष्ठियों के माध्यम से जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है।

No comments:

Post a Comment