menubar

breaking news

Monday, September 25, 2017

वीबीएस पूर्वांचल विश्वविद्यालय में विभिन्न प्रतियोगिताओं के विजेता विद्यार्थियों को प्रमाण पत्र देकर किया गया सम्मानित

Image result for images of vbs purvanchal universityजौनपुर। पूर्वांचल विश्वविद्यालय के संकाय भवन के कांफ्रेंस हॉल में पंडित दीनदयाल उपाध्याय जन्म शताब्दी वर्ष के तहत विश्वविद्यालय में हुए विभिन्न प्रतियोगिताओं के विजेता विद्यार्थियों को प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि शिक्षाविद डॉ राम मोहन सिंह ने कहा कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय ने अपना पूरा जीवन गरीब, दलित और वंचित समाज के उत्थान में लगाया। उन्होंने कहा कि एकात्म मानववाद का दर्शन देकर पंडित दीन दयाल उपाध्याय ने देश को एक नई दिशा दी। विशिष्ट अतिथि प्राचार्य डॉ सत्येंद्र प्रताप सिंह ने कहा कि पूंजीगत व्यवस्था का विरोध कर देश के अंतिम व्यक्ति का चिंतन करने वाले वह पहले महापुरुष थे। इस अवसर पर पोस्टर प्रतियोगिता में प्रियंका सिंह प्रथम, निलेश गुप्ता द्वितीय, साक्षी त्रिपाठी तृतीय, वाद- विवाद प्रतियोगिता में मिर्जा मदासर हुसैन प्रथम, त्यागी नाथ यादव द्वितीय, रामकुमार यादव तृतीय, काव्य पाठ प्रतियोगिता में आकांक्षा श्रीवास्तव प्रथम, अंकिता तिवारी द्वितीय व गौरव तृतीय, निबंध प्रतियोगिता में मनीषा गुप्ता प्रथम, रूद्र सेठ द्वितीय, शीतला त्रिपाठी तृतीय एवं स्लोगन प्रतियोगिता में प्रवीण कुमार प्रजापति प्रथम, पीयूष  कुमार मौर्य द्वितीय तथा निलेश गुप्ता को तृतीय स्थान पाने पर प्रमाण पत्र देकर पुरस्कृत किया गया। जनसंचार विभाग की छात्रा आकांक्षा श्रीवास्तव ने पंडित दीन दयाल उपाध्याय के जीवन पर आधारित स्वरचित रचना हर मानव का गांव धरोहर, उत्पादन का मार्ग गांव है को प्रस्तुत कर सबका मन मोह लिया। 
कार्यक्रम संयोजक डॉक्टर मानस पांडे ने स्वागत आभार डॉ राजेश शर्मा एवं संचालन डॉ अमित वत्स ने किया। इस अवसर पर डॉ मनोज मिश्र, डॉ एस पी तिवारी, डॉ अवध बिहारी सिंह, डॉ सुनील कुमार, डॉ दिग्विजय सिंह राठौर, डॉ प्रदीप कुमार, ऋषि श्रीवास्तव सहित विद्यार्थी उपस्थित रहे।  

No comments:

Post a Comment