menubar

breaking news

Friday, September 8, 2017

रोहंगिया मुसलमानों पर जुल्म व ज्यादती बंद करने के लिए, संयुक्त राष्ट्र संघ के महासचिव को सम्बोधित ज्ञापन डीएम को सौंपा

जौनपुर। समाजसेवी एवं मानवतावादी सामाजिक संगठन के बैनर तले मौलाना अनवार अहमद कासमी के नेतृत्व में संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एन्टीनियो गुतरेस को सम्बोधित पांच सूत्रीय ज्ञापन शुक्रवार को डीएम को सौंपा गया।
ज्ञापन में यह मांग की गयी है कि म्यांमार बर्मा में रोहंगिया मुसलमानों पर जुल्म व ज्यादती बंद हो, रोहंगिया मुसलमान एक अरसे से म्यांमार में रहते आयें है उनको वहां की नागरिकता प्रदान की जाय, रोहंगिया मुसलमानों व अन्य अल्पसंख्यक समुदायों को सरकारी सेवा में अवसर प्रदान की जाय, रोहंगिया मुसलमानों एवं अन्य अल्पसंख्यक समुदाय की जान माल की सुरक्षा की जाये व उनके कत्लेआम पर तत्काल रोक लगायी जाय और म्यांमार में मानवाधिकार के उल्लंघन के खिलाफ म्यांमार सरकार पर सुरक्षा परिषद के माध्यम से रोक लगायी जाय ताकि म्यांमार में मानवाधिकार का उल्लंघन बंद हो।
इस मौके पर मौलाना कासमी ने कहा कि म्यांमार (बर्मा) में विगत वर्षों से लगातार रोहंगिया मुसलमानों पर जुल्म व ज्यादती का सिलसिला जारी है। म्यांमार की सरकार इस जुल्म और ज्यादती पर आंखें बंद किये हुए है, जबकि उसके संरक्षण में ही रोहंगिया मुसलमानों का राखेन प्रदेश में जुल्म का निशाना बनाया जा रहा है और अल्पसंख्यक समुदाय भी अपने को असुरक्षित महसूस कर रहा है व पलायन कर रहा है।
ज्ञापन सौंपने वाले प्रतिनिधिमण्डल में अंसार अहमद, अली मंजर डेजी, मौलाना हस्सान अहमद, एकराम खान, एमएम हीरा, अफरोज अहमद एडवोकेट, डा. अबू अकरम, कमालुद्दीन, मो. राशिद, जाफर खान, फिरोज प्रधान, अब्दुल कादिर गोगा, परवेज अहमद, मो. हाशिम, राजू मिर्जा मौजूद रहे।

No comments:

Post a Comment