menubar

breaking news

Wednesday, September 27, 2017

1.37 लाख प्राइमरी शिक्षकों की भर्ती लिखित परीक्षा से कराने की योगी कैबिनेट ने दी मंजूरी

लखनऊ। सीएम योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता वाली कैबिनेट ने 1.37 लाख प्राइमरी शिक्षकों की भर्ती लिखित परीक्षा से कराने की मंजूरी दे दी। इसमें वही अभ्यर्थी आवेदन के पात्र होंगे, जो टीईटी पास होंगे।
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार शिक्षामित्रों के लिए भी यही व्यवस्था होगी यानी उन्हें भी टीईटी पास के साथ लिखित परीक्षा पास करनी होगी। सरकार ने शिक्षक भर्ती में चयन मापदंड के बदलाव के लिए यूपी बेसिक शिक्षा अध्यापक सेवा नियमावली में संशोधन को मंजूरी दे दी है। लिखित परीक्षा के लिए न्यूनतम उत्तीर्ण/ क्वालीफाइंग मार्क्स व इससे जुड़े दिशानिर्देश राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद के निदेशक राज्य सरकार की अनुमति से जारी करेंगे।
सूत्रों की माने तो लिखित परीक्षा में उत्तीर्ण अभ्यर्थियों के प्राप्तांक का 60 फीसदी अंक और अधिकतम 40 अंक के शैक्षिक गुणांक तय करने के लिए मेरिट बनेगी। शै‌क्षिक गुणांक तय करने के लिए 10वीं, 12वीं, ग्रुजुएशन और बीटीसी के 10 फीसदी अंक जुड़ेंगे। इसमें सहायक अध्यापक भर्ती परीक्षा का अंक जोड़कर मेरिट तैयार की जाएगी।
सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार शिक्षामित्रों को अनुभव के आधार पर प्रत्येक वर्ष के लिए 2.5 अंक का वेटेज मिलेगा। यह अधिकतम 25 अंक का होगा और शिक्षामित्रों की अधिकतम आयु सीमा 60 वर्ष का लाभ मिलेगा।

No comments:

Post a Comment