menubar

breaking news

Friday, August 11, 2017

बच्चों से मजदूरी, कल कारखाने में काम कराना दण्डनीय अपराध है

vijay pratap
जौनपुर। आज उ0प्र0 राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण लखनऊ के निर्देशानुसार व जिला जज नन्द लाल के आदेशानुसार  जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के तत्वाधान में प्राइमरी पाठशाला हुसैनाबाद देहात में ‘दी चिल्ड्रन राईट्स आन नीवू लेजिस्लेसन जीवूनाईल जस्टिस एक्ट 2000‘ विषय पर गोष्ठी का आयोजन किया गया जिसकी अध्यक्षता रवि यादव  सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण  द्वारा किया गया। इस मौके पर ,मध्यस्थ डाॅ0 दिलीप कुमार सिंह, प्रतिधारक मनोज वर्मा नायब तहसीलदार मानधाता प्रताप सिंह व विद्यालय के प्रिन्सिपल गीता यादव, छात्र छात्रायें मीडिया के लोग व जन समूह उपस्थित रहे।
गोष्ठी में सचिव/सिविल जज श्री रवि यादव द्वारा ‘बाल अधिकार‘ में सभी बिन्दुओं पर व्यापक प्रकाश डालते हुए उन्होंने कहा कि शासन प्रशासन एवं विधि तथा संविधान में ‘दी चिल्ड्रन राईट्स आन नीवू लेजिस्लेसन जीवूनाईल जस्टिस एक्ट 2000 के अलावा हर प्रकार के अधिकार, अत्याचार, उत्पीड़न के खिलाफ व्यापक अधिकार एवं सुरक्षा प्रदान है। फिर भी यदि हर तंत्र फेल हो जाए तों बालक व बालिकाएं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण में हर प्रकार की सहायता एवं सुझाव के लिए आ सकती है। इसी क्रम में डाॅ दिलीप कुमार सिंह, ने कहा कि बच्चेे देश की अमूल्य निधि है, बच्चों का विकाश देश का विकाश है। बालको कों अपने अधिकारों के साथ कर्तव्यों का उल्लेखनीय रूप से ज्ञान करेगा। मजदूरी, कल कारखाने में काम कराना एक दण्डनीय अपराध है। संविधान में 1 से 6 वर्ष के बच्चों को शिक्षा, भरण पोषण व देख भाल का अधिकार प्राप्त है जिसकी व्यवस्था राज्य सरकार करेगी। इसके अलावा भारतीय संविधान के बच्चों से संबंधित मूल अधिकारो, बच्चों के कर्तव्य, नैतिकता व मानव अधिकारों के बारे में चार्चा की गयी ।
कार्यक्रम का सफल संचालन संधिकर्ता डा0 दिलीप कुमार सिंह ने तथा आभार प्रिन्सिपल गीता यादव ने किया ।

No comments:

Post a Comment