menubar

breaking news

Thursday, August 24, 2017

अपने कर्तब्यनिष्ठा का पालन करते समय जौनपुर के लाल हुए शहीद



शहीद दरोगा के परिजनों को 20 लाख की आर्थिक सहायता देने का सरकार ने किया ऐलान
जौनपुर। जिले का एक और लाल कर्तब्यनिष्ठा का पालन करते हुए शहीद हो गया। यह मनहूस खबर मिलते ही गांव में कोहराम मच गया है। मालूम हो कि चित्रकूट जिले में आज पुलिस और डाकुओ के बीच मुठभेड़ हो गया था। डाकुओ द्वारा पुलिस पार्टी पर की फायरिंग में रैपुरा थाने में तैनात दारोगा जेपी सिंह शहीद हो गये है। जेपी सिंह मूल रूप से नेवढ़ियां थाना क्षेत्र के बनेवरा गांव के रहने वाले थे । बनेवरा गांव का लाल चित्रकूट में डकैतों से मुठभेड़ के दौरान शहीद हो गया। मुठभेड़ में जेपी सिंह की शहीद होने की खबर जैसे ही गांव में पहुंची तो पुरे क्षेत्र में कोहराम मच गया और परिवार में मातम का माहौल व्याप्त हो गया । परिवार के लोग आनन फानन में चित्रकूट के लिए निकल गए। जिसको खबर लगी वो उनके घर की तरफ सांत्वना देने पहुंचने लगा। किसी को यकीन नहीं हो था कि जयप्रकाश सिंह अब उनके बीच नही रहे। सबसे बड़ी बात शहीद के जेपी का पूरा परिवार फ़ौज और पुलिस की सेवा किये इसलिए इनकी ये कुर्बानी एक अलग ही स्थान रखता है।
जनपद के नेवढ़िया थाना क्षेत्र के बनेवरा गांव के रहने वाले शहीद जेपी सिंह मुठभेड़ में चित्रकूट जिले के मानिकपुर थाना क्षेत्र के निही चिरैया के जंगल में आज सूबह सात लाख के इनामी डकैत बबली कोल गैग से पुलिस की मुठभेड़ हो गया। आमने सामने हुई फायरिंग में रैपुरा थाने में तैनात दारोगा जेपी सिंह शहीद हो गये है। जेपी सिंह मूल रूप से नेवढ़ियां थाना क्षेत्र के बनेवरा गांव के रहने वाले है। इस खबर मिलते ही गांव में कोहराम मच गया है। आसपास के लोगो जहां उनकी मौत पर गम है वही उनकी शहादत पर गर्व भी है। उनका अंतिम दर्शन और अंतिम विदाई देने के लिए उनके आवास पर भारी भीड़ उमड़ रही है। हलांकि अभी उनका शव चित्रकूट से नही आया है। शहीद की पत्नी अपने दो बच्चे के साथ राजस्थान के कोटा में है,जहाँ उनके दोने बच्चे पढ़ाई कर रहे है ,शहदी जेपी सिंह दो भाई और दो बहने है एक भाई प्रदेश के महराजगंज जनपद में पुलिस विभाग में तैनात है। 
शहीद जयप्रकाश का पूरा कुनबा ही दादा पिता जी , चाचा और खुद वो सेज भाई पुलिस और सेना में रहकर देश की सेवा करने में तत्पर रहे है जहाँ एक तरफ लोगों के दिमाग में पुलिस को लेकर खौफ रहता है वही दूसरी तरफ ये पूरा परिवार देश की सेवा में अपने प्राणो की आहुति देने को तैयार है जिसका जीता जगता प्रमाण आज  जेपी सिंह ने समाज के सामने देश के रक्षा के लिये आतंक और दुर्दांत डाकुओ से लोहा लेते हुए अपने प्राणो को बलिदान कर दिया इनकी इस शाहदत का पुरे गाँव में लोग गर्व महसूस कर रहे है घटना की जानकारी मिलते ही जौनपुर के एसपी ने कहा की शहीद हमारे  के है हम सभी लोग और हमारा पूरा विभाग इस दुःख की  घड़ी में उनके परिवार के साथ है जो भी सम्भव मदद होगी किया जायेगा व् शहीद को पुरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी जाएगी।

No comments:

Post a Comment