menubar

breaking news

Wednesday, August 2, 2017

भारत को हाइड्रो-इलेक्ट्रिक पावर प्लांट बनाने की विश्व बैंक ने दी मंजूरी

Image result for images of hydroelectric power plantनई दिल्ली। सिंधु जल समझौते के मामले में भारत के हाथ एक बड़ी सफलता लगी है। विश्व बैंक ने भारत को झेलम और चिनाब नदी पर हाइड्रो-इलेक्ट्रिक पावर प्लांट बनाने की मंजूरी दे दी है। 
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार विश्व बैंक का यह फैसला सेक्रेटरी स्तर की बैठक के बाद लिया गया, जो भारत और पाकिस्तान की तरफ से बुलाई गई थी। 
मालूम हो कि भारत झेलम और चिनाब नदी पर हाइड्रो-इलेक्ट्रिक पावर प्लांट बना रहा है, जिस पर पाकिस्तान ने आपत्ति जाहिर की थी और सिंधु जल समझौते को लेकर विश्व बैंक के सामने मामले में सुनवाई की अपील की थी।
विश्व बैंक ने कहा कि भारत और पाकिस्तान दोनों ही सितंबर में वाशिंगटन में सिंधु जल समझौते पर चर्चा के तैयार हो गए हैं। इसके साथ ही विश्व बैंक ने भारत को 330 वॉट के किशनगंगा और 850 वॉट के रैटले हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर प्लांट के निर्माण को मंजूरी दे दी है।

No comments:

Post a Comment