menubar

breaking news

Sunday, August 13, 2017

जेल में खेल करना निलंबित एआरटीओ को पड़ा भारी

वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये अब होगी पेशी
वाराणसी। वाराणसी जनपद के चौकाघाट जिला जेल में निरुद्ध निलंबित एआरटीओ आरएस यादव को जेल के अन्दर खेल करना भारी पड़ गया कारण कि जन शिकायतों के आधार पर डीएम ने कड़ा रुख अख्तियार करते हुए उन्हें मिर्जापुर जेल स्थानांतरित करने का आदेश दे दिया। 
सूत्रों की मानें तो जिलाधिकारी वाराणसी योगेश्वर राम मिश्र को बराबर शिकायत आ रही थी कि चौकाघाट जेल में बंद एआरटीओ आरएस यादव अपनी पहुँच व धन बल के आधार पर जेल में भी सुख सुविधा हासिल कर रहे थे। जिसपर डीएम ने जब अपने स्तर पर जांच कराई तो शिकायतों में सत्यता दिखी। जिसपर डीएम ने कड़ा रुख अख्तियार करते हुए आरएस यादव को मिर्जापुर जेल स्थानांतरित कर दिया। 
डीएम के निर्देश पर भारी सुरक्षाबल के साथ निलंबित एआरटीओ को मिर्जापुर भेज दिया गया। 
बताते तो यह भी हैं कि सत्ता के गलियारे में अपनी अच्छी पैठ बताने वाले आरएस यादव ने अपने अधीनस्थ रहे सिपाही अजित यादव जो उनके साथ आरोपी भी हैं उसका आर्थिक सहयोग कर न्यायालय द्वारा स्थगन आदेश भी दिलवा दिया। 
जेल से ही खेल खेलने वाले एआरटीओ के कारनामों की खबर जिलाधिकारी ही नहीं शासन सत्ता के संज्ञान में भी आ चुका है। ऐसे में सीएम योगी आदित्यनाथ के किसी कार्यवाही के भय से डीएम ने त्वरित निर्णय लेकर जहां पाने दायित्वों का निर्वहन किया है। वहीँ यह कार्यवाही कर समाज में एक सन्देश भी भेजा है कि अब यूपी में किसी की सेटिंग नहीं चल पाएगी, तथा यूपी में अब नकारा एवं भ्रष्ट अधिकारियों की जगह जेल होगी और इमानदार और तेज तर्रार, अनुशाषित अधिकारियों एवं कर्मचारियों को सरकार प्रोत्साहन देगी। 
खबर है कि जेल में सेटिंग का माध्यम प्रदेश सरकार में पूर्व कैबिनेट मंत्री के रिश्तेदार ने की थी।
कदाचार के आरोपी अरबपति एआरटीओ आरएस यादव के साथ कुछ ऐसे लोग हैं जो इनकी कृपादृष्टि से करोडपति बन गये हैं। 
भ्रष्टाचार के आरोप में निलंबित एआरटीओ आरएस यादव के विरुद्ध शिकायत करने वाले पूर्वांचल ट्रक ओनर्स एसोशियन के उपाध्यक्ष प्रमोद सिंह ने भी शासन से, जेल में वीआईपी सुविधा का भोग कर रहे आरएस यादव के बारे में शासन को अवगत कराया। 
निलंबित एआरटीओ की वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये होगी पेशी।
शासन के निर्देश पर निलंबित एआरटीओ आरएस यादव की अब पेशी हेतु कोर्ट में नहीं जाना पडेगा और उनकी पेशी जेल में ही वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये कराई जायेगी। 

No comments:

Post a Comment