menubar

breaking news

Tuesday, August 22, 2017

तीन तलाक को सुप्रीम कोर्ट ने बताया असंवैधानिक, छह महीने तक देश भर में कहीं भी तीन तलाक नहीं होगा मान्य

Image result for images of tin talaq\
नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट के पांच जजों की संवैधानिक पीठ के तीन जजों ने तीन तलाक के महत्वपूर्ण मुद्दे पर फैसला सुनाते हुए इसे असंवैधानिक बताया है। 
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जस्टिस यूयू ललित, जस्टिस फली नरीमन, जस्टिस जोसेफ कुरियन ने तीन तलाक को असंवैधानिक बताते हुए कहा कि इससे मुस्लिम महिलाओं के अधिकारों का उल्लंघन होता है। 
जबकि इससे पहले चीफ जस्टिस जेएस खेहर ने कहा कि तीन तलाक धार्मिक प्रक्रिया और भावनाओं से जुड़ा मामला है, इसलिए इसे एकदम से खारिज नहीं किया जा सकता।
खेहर ने कहा कि इस मुद्दे पर सबसे महत्वपूर्ण पक्ष है संसद और केंद्र सरकार, उन्हें ही इस पर कानून बनाना चाहिए। सरकार को कानून बनाकर इस पर एक स्पष्ट दिशा निर्देश तय करने चाहिए। चीफ जस्टिस जेएस खेहर ने इसके लिए केंद्र सरकार को छह महीने का समय दिया। खेहर ने कहा कि छह महीने तक के लिए कोर्ट अनुच्छेद 142 के तहत विशेष शक्तियों का प्रयोग करते हुए तीन तलाक पर तत्काल रोक लगाती है। इस अवधि में देशभर में कहीं भी तीन तलाक मान्य नहीं होगा। 

No comments:

Post a Comment