menubar

breaking news

Saturday, July 22, 2017

सीएमओ दफ्तर से कब हटेंगे वर्षों से कुंडली मारकर बैठे करोड़पति बाबू

आखिर शासन क्यों बेखबर है, करोड़पति बाबुओं की फेहरिस्त से 
जौनपुर। प्रदेश की योगी सरकार ने सूबे के सभी जनपदों को यह फरमान जारी कर दिया है कि विभागों में कुंडली मारकर बैठे करोड़पति बाबुओं की सूची शासन को उपलब्ध कराई जाय ताकि शासनादेश के तहत उनको स्थानांतरित किया जाए।
जौनपुर का स्वास्थ्य विभाग सरकार की इस हुक्म की अनदेखी कर रहा है। जिला मुख्यालय पर स्थित सीएमओ दफ्तर में सपा सरकार की विचारधारा से जुड़े एक ही बिरादरी के करीब डेढ़ दर्जन करोड़पति बाबु वर्षों से मलाईदार पटल पर कुंडली मारकर बैठे हुए हैं। 
सूत्रों की मानें तो इस विभाग में कुछ ऐसे बाबू हैं जिनके इशारे पर आने वाले हर सीएमओ अपनी कलम चलाता आ रहा है। 
कमोवेश यह स्थिति तत्कालीन सीएमओ रविन्द्र कुमार के कार्यकाल तक रही है। फिलहाल सूबे में योगी सरकार बनी और सीएमओ दफ्तर में भ्रष्टाचार से वाकिब होकर प्रदेश सरकार की काबीना मंत्री एवं जौनपुर प्रभारी रीता बहुगुणा जोशी ने जनहित में सराहनीय निर्णय लेते हुए भ्रष्टाचार में लिप्त सीएमओ को उसका ओहदा घटाकर यह संकेत दे दिया है कि अब सरकार ऐसे भ्रष्ट अधिकारियों को जिम्मेदार पदों पर न बैठाकर उनके विरुद्ध जाँच कराकर दोषी पाए जाने की स्थिति में उन्हें जेल के सलाखों के पीछे भेजा जायेगा। 
शासन के निर्देश पर जौनपुर में नए सीएमओ के रूप में ओपी सिंह ने कार्यभार ग्रहण कर लिया है। 
अब देखना है कि क्या ये भी दफ्तर के माफिया बाबू के इशारे पर काम करते हैं या इन्हे चिन्हित कर इनके क्रिया कलापों की जांच कराकर उन्हें दण्डित हेतु शासन को वस्तु स्थिति से अवगत कराएंगे।  

No comments:

Post a Comment