menubar

breaking news

Thursday, July 13, 2017

वैज्ञानिकों ने चेताया, कम करो आबादी वरना ख़त्म हो जायेगी दुनिया

नई दिल्ली। एक बार फिर दुनिया खत्म होने की ओर अग्रसर हो रही है, वैज्ञानिकों का कहना है कि इसका सबसे बड़ा कारण दुनियाभर में कई प्रजातियों का लगातार विलुप्त होना है।
सूत्रों की मानें तो वैज्ञानिकों ने कहा है कि दुनिया छठी बार खत्म होने की तरफ है। इससे पहले भी 5 बार ऐसा हो चुका है, लेकिन वो सब प्राकृतिक कारणों से हुआ था, वहीँ कुछ वैज्ञानिकों का मानना है कि इस विनाश को अब सिर्फ इंसानों की बढ़ती आबादी में कमी लाकर ही रोका जा सकता है। उनका कहना है कि जब आबादी कम होगी, तो पर्यावरण के दोहन की गति भी अपने आप कमी होती जाएगी।
सूत्रों के मुताबिक वैज्ञानिकों ने पशुओं की संख्या में हो रही कमी को दुनियाभर के लिए खतरा बताते हुए कहा है कि इंसानी आबादी के बढ़ने से जानवरों के ‘घरों’ यानी जंगल, पानी में दखल हो रहा है, इंसान जंगलों को काट रहा है, जिसके कारण ये खतरा तेजी से बढ़ रहा है। वैज्ञानिकों के अनुमान के मुताबिक पिछले 100 सालों में 200 प्रजातियां विलुप्त हो गई हैं, वहीं पिछले 20 लाख सालों से सामान्य तौर पर हर 100 साल में महज 2 प्रजातियां ही विलुप्त होती थीं।
बता दें कि नेशनल अकेडमी ऑफ साइंसेज की स्टडी में प्रजातियों के विलुप्त होने के दूसरे कारणों को भी विस्तार से बताया गया है, जिसमें पर्यावरण प्रदूषण और लगातार जलवायु परिवर्तन प्रमुख कारण हैं। 

No comments:

Post a Comment