menubar

breaking news

Saturday, July 15, 2017

आजमगढ़ पुलिस ने ईनामी शराब माफिया को किया गिरफ्तार

आजमगढ़। जनपद में स्वाट टीम ने अवैध शराब के मुख्य सरगना और पुलिस को चुनौती देने वाले पांच हजार के ईनामी शराब माफिया सुरेन्द्र यादव उर्फ मुुुुलायम और उसके साथी को गिरफ्तार कर उनके पास से दो वाहन, 503 पाउच अवैध शराब बरामद कर लिया। 
पुलिस अधीक्षक ने दावा किया कि शराब माफिया ग्राम स्तर पर रिटेलर के माध्यम से अवैध शराब बेचवाता था। शराब माफिया को गिरफ्तार करने वाली पुलिस टीम को पुलिस महानिदेशन ने पचास हजार रूपए का पुरस्कार दिया है।
आजमगढ़ जनपद में जहरीली शराब से हो रही मौत के बाद जब पुलिस ने शराब कारोबारियों के खिलाफ अभियान छेड़ा तो शराब माफिया बौखला गये। इनकी बौखलाहट इस कदर बढ़ी कि इन्होने सीधे सीधे पुलिस को ही चुनौती दे डाली। 12 जुलाई को मुबारकपुर थानाध्यक्ष को शराब माफिया सुरेन्द्र यादव ने सीयूजी  मोबाइल पर फोन कर अभियान रोकने की धमकी देने के साथ चेतावनी दी कि अगर अभियान नही रूका तो आगे शराब से सैकड़ो लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ेगा। शराब माफिया की धमकी के बाद पुलिस ने इसे चुनौती के रूप में स्वीकार करते हुए स्वाट टीम समेत पुलिस की पांच टीमें शराब माफिया की गिरफ्तारी के लिए शराब माफिया के संभावित ठीकानों पर छापेमारी शुरू की। इसी दौरान पुलिस ने दो दर्जन शराब कारोबारियों को गिरफ्तार कर हजारो लीटर अवैध शराब भी बरामद की। 
इनसे पूछताछ के दौरान पुलिस को पता चला कि शराब माफिया सुरेन्द्र यादव का नेटवर्क काफी मजबूत है और वह ग्रामस्तर तक शराब के छोटे-छोटे रिटेलरों के माध्यम से अवैध शराब की आपूर्ति करवाता है, इस दौरान पुलिस ने जीयनपुर थाना क्षेत्र के मुबारकपुर मोड़ से शराब माफिया सुरेन्द्र यादव उर्फ मुलायम और उसके साथी पिन्टू यादव उर्फ सुबाश को गिरफ्तार कर उनके पास से एक स्कार्पियों, कार और 500 पाउच मिथाइल एल्कोहल बरामद किया। पहले भी गिरफ्तार शराब माफिया इससे पूर्व भी 2013 में मुबारकपुर में शराब से हुई 46 मौतों में भी चिन्हित था लेकिन किन्ही कारणों से पुलिस उसे गिरफ्तार नही कर पायी थी। पुलिस अधीक्षक ने दावा किया कि शराब माफिया सुरेन्द्र यादव उर्फ मुलायम की गिरफ्तारी होने से आजमगढ़ और मऊ जिले में अवैध शराब पर अकुंश लगेगा। वही शराब माफिया पर एनएसए की कार्यवाई भी की जायेगी। शराब माफिया को गिरफ्तार करने वाली पुलिस टीम को डीजीपी ने पचास हजार रूपये का पुरस्कार दिया है।

No comments:

Post a Comment