menubar

breaking news

Saturday, July 8, 2017

इस बार सावन में पड़ेंगे पांच सोमवार, जानें कैसे करे भगवान शिव और पार्वती की पूजा

जौनपुर। 10 जुलाई से सावन शुरू होने जा रहा है और इस बार यह बेहद खास है। ये पवित्र महीना सोमवार से शुरू होगा और सोमवार को ही खत्म होगा, इस बार सावन के महीने में पांच सोमवार है। 
ऐसा संयोग कई सालों में एक ही बार आता है इस बार सावन माह में तीन सोमवार सर्वार्थ सिद्धि योग बन रहे हैं।
श्रावण मास के हर सोमवार को भगवान शिव-पार्वती की प्रीति के लिए व्रत रखकर शिवजी की बेलपत्र, दूध, दही, चावल, गंगाजल सहित पूजा करने से मनोकामनाएं पूर्ण होती है।
पहला सोमवार सर्वार्थ सिद्धि योग में शुरू होगा और आखिरी सोमवार के सर्वार्थ सिद्धि योग में खत्म भी होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार सावन 7 अगस्त को ख़त्म होगा। इस दिन चंद्रग्रहण का दुर्लभ योग भी बन रहा है और रक्षा बंधन का त्यौहार भी है।
10 जुलाई सोमवार से शुरू हो रहा सावन का महीना भगवान शिव को मनाने का समय है, लेकिन कुछ सावधानियां बरतने की जरूरत है वरना भगवान शंकर नाराज हो जाएंगे। सावन के महीने में मांस-मदिरा आदि के सेवन नहीं करना चाहिए। शादी जैसा शुभ कार्य नहीं करने चाहिए, इसके अलावा ब्रह्मचर्य व्रत के नियमों का पालन करना चाहिए। सावन के महीने में एक व्रती को हरी सब्जियां और साग नहीं खाना चाहिए। शरीर पर तेल नहीं लगाना चाहिए और न ही कांसे के बर्तन में खाना-खाना चाहिए। पूजा के समय में शिवलिंग पर हल्दी न चढ़ाएं। शिवलिंग पर न चढ़ाएं हल्दी।इस महीने में अगर घर के दरवाजे पर सांड आ आए तो उसे मार कर भगाने की बजाय कुछ खाने को दें। सांड को मारना श‌िव की सावारी नंदी का अपमान माना जाता है। सावन के महीने में श‌िव भक्तों का अपमान न करें। भगवान श‌िव के भक्तों का सम्मान श‌िव की सेवा के समान फलदायी होता है। यही कारण है क‌ि कई लोग कांवड़‌ियों की सेवा करते हैं।

No comments:

Post a Comment