menubar

breaking news

Sunday, July 30, 2017

रोजी रोटी के चक्कर में सऊदी गया जौनपुर का लाल मुसीबत में फंसा, माँ-बाप, पत्नी ने मदद की लगाई गुहार

जौनपुर। जनपद के मुंगराबादशाहपुर थाना क्षेत्र के ग्राम रामपुर गाँव निवासी रियाज अहमद पुत्र हामिद अली जो रोजी रोजगार के सिलसिले में सऊदी अरब गया था, को वर्षों पूर्व चोरी के आरोप में जेल में बंद कर दिये जाने से परिजनों के सामने दु:ख का पहाड़ टूट पड़ा है।
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार उक्त गाँव निवासी हामिद अली  का छोटा पुत्र रियाज अहमद रोजी-रोजगार के सिलसिले में 28 अप्रैल 2014 को सऊदी अरब के जेद्दा चला गया वहां वह सऊदी ग्राउण्ड सर्विस कम्पनी के माध्यम से हवाई अड्डे पर बतौर कुली हवाई जहाज पर सामान उतारने चढ़ाने का कार्य करता था और मकरौना सिटी में कमरा लेकर रहता था। 
सूत्रों के मुताबिक लगभग दो वर्षों बाद एक दिन अचानक वहां की पुलिस रियाज के कमरे पर पहुंची और चोरी के एक मामले में पूछ-ताछ के लिए रियाज को अपने साथ ले गई उस दिन तो पूछ-ताछ करने के बाद रियाज को छोड़ दिया। फिर दो दिनों बाद रात में पुलिस ने रियाज को कमरे से सोते समय उठा लिया और उसे अबहा जेल में बंद कर दिया। रियाज का कुछ दिनों तक परिजनों से सम्पर्क न होने पर परिजन किसी अनहोनी की आशंका से घबरा उठे और रियाज के साथ रहने वाले लोगों से जानकारी किया तो लोगों ने घटना बतायी लेकिन वह यह नहीं बता सके कि रियाज को कहा और किस जेल में रखा गया है। 
लगभग एक वर्ष बाद अचानक रियाज के पत्नी ताहिरा बेगम के मोबाइल पर एक फोन आया जिससे रियाज को चोरी के आरोप में रियाज के अबहा जेल में बंद होने की जानकारी हुई रियाज ने बताया कि उसे गलत तरीके से चोरी का झूठा आरोप लगाकर जेल में बंद कर दिया गया है और जेल में उसे भारतीय होने के कारण बहुत प्रताडि़त किया जा रहा है। वह बड़ी मुश्किल से जेल के किसी कर्मचारी के मोबाइल से यह जानकारी दे रहा है। 
यह सूचना मिलते ही बूढ़े माँ-बाप सहित पत्नी का रो-रोकर बुरा हाल हो गया है, परिजनों ने तत्कालीन क्षेत्रीय विधायक को इस सम्बंध में जानकारी देते हुए मदद की गुहार लगायी लेकिन परिजनों को विधायक के कोरे आश्वासन के शिवा कुछ भी नहीं मिला। फिर लगभग डेढ़ माह पूर्व एक फोन आया जिसमें रियाज ने बताया कि उसे अबहा से जेद्दा स्थित बरेमान जेल की 33 नम्बर बैरक में रखा गया है और बहुत प्रताडि़त किया जा रहा है। रियाज ने पत्नी ताहिरा से बताया कि वह किसी से सम्पर्क कर इसकी जानकारी क्षेत्रीय सांसद के माध्यम से विदेश मंत्रालय को दे नहीं तो उसका जीवित रहना मुश्किल है। यह सूचना मिलते ही पत्नी ताहिरा एवं बूढे माँ-बाप परेशान हो उठे, रियाज के बूढ़े पिता हामिद अली बेटे की दास्तां बयां करते फूट-फूटकर रोते हुए बताया कि बेटे ने जाते समय कहा था कि वह कमाकर जल्द ही घर लौट आएगा लेकिन मेरे बेटे की खुशियों पर किसी की नजर लग गयी। अब तो खुदा का ही सहारा है। 
बूढ़े हामिद अली ने क्षेत्रीय सांसद कृष्ण प्रताप सिंह व जिलाधिकारी का ध्यान आकृष्ट कराते हुए अपने बेटे रियाज को सऊदी अरब की जेल से छुड़ा कर भारत वापस लाए जाने की मांग की है।

No comments:

Post a Comment