menubar

breaking news

Wednesday, June 14, 2017

गोवध के आरोपी को मिलेगी आजीवन कारावास की सजा, नहीं होगी जमानत

Image result for images of many cowअहमदाबाद। गोवध को लेकर चल रही बहस के बीच गुजरात सरकार ने गोवध करने पर आजीवन कारावास की सज़ा के प्रावधान को लागू कर दिया है। इससे पहले इस तरह के अपराधों में जमानत मिल जाती थी, लेकिन नए कानून में पुलिस के लिए इसे प्रवर्तनीय बना दिया गया है और गैर-जमानती होगा।
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार गुजरात सरकार ने गुजरात पशु संरक्षण (संशोधन) अधिनियम-2017 लागू कर दिया है, जिसके मुताबिक राज्य में गोवध के लिए आजीवन कारावास का प्रावधान है। इस विधेयक को इसी वर्ष मार्च में गुजरात विधानसभा में पारित किया गया था।
राज्य के गृह मंत्री प्रदीप सिंह जडेजा ने कहा कि राज्य सरकार गाय की सुरक्षा को लेकर प्रतिबद्ध है और इससे संबंधित सारे नियमों की घोषणा जल्द ही अधिसूचना जारी कर की जाएगी। इस कानून के लागू होने के साथ ही राज्य में गोवध करने वालों को आजीवन कारावास का प्रावधान है तथा वध के लिए गाय ले जाने वाले वाहन को जब्त कर लिया जाएगा।
जडेजा ने कहा कि इससे पहले अब तक गोवध के लिए तीन से सात वर्ष की सजा और 50,000 रुपये तक के जुर्माने की सजा थी, लेकिन अब कम से कम 10 वर्ष की सजा और अधिकतम आजीवन कारावास की सजा होगी, जबकि पांच लाख रुपये तक का जुर्माना लगेगा।
जडेजा ने कहा कि नए कानून के तहत बछड़ा या बछिया की अवैध ढुलाई, गोमांस या गोमांस से बने उत्पाद, गोमांस का भंडारण या गोमांस के प्रदर्शन पर भी सात से 10 वर्ष की सजा का प्रावधान है और एक लाख रुपये से पांच लाख रुपये तक जुर्माना लगेगा।

No comments:

Post a Comment