menubar

breaking news

Saturday, June 24, 2017

पैसों की लालच में साथियों ने की थी बीड़ी व्यवसाई की हत्या, दो आरोपियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

ललितपुर। कोतवाली क्षेत्र के इलाइट क्षेत्र में 16 जून को बन्द कमरे में मिले बीड़ी व्यवसाई दीपक शुक्ला के शव के मामले में पुलिस ने खुलासा करते हुए बताया कि पैसों की लालच में व्यवसाई साथियों ने ही शराब पिलाकर गला दबाकर हत्या कर दी थी। इस मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। 
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पकड़े गए हत्यारोपियों ने बताया कि उन्होंने हत्या करने की योजना फ़िल्म दृश्यम को देखकर बनाई थी। हत्या के पूर्व भी उन्होंने यह फ़िल्म एक बार फिर देखी थी, लेकिन उन्हें क्या पता था कि वह पकड़े जाएंगे।
आज पुलिस अधीक्षक सलमान ताज पाटिल ने बताया की इस हत्या कांड में शामिल 2 अभियुक्तों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने खुलासा किया कि आरोपियों ने पैसे की लालच में दीपक शुक्ला की हत्या की थी। क्योंकि आरोपी कोतवाली क्षेत्र के जी डी मेमोरियल स्कूल पिसनारी बाग के पास निवासी नीरज पुत्र धन्नू रजक व ग्राम देलवारा निवासी शिवम झा पुत्र कल्लू काफी समय से दीपक शुक्ला को जानते थे और उन्हें पता था कि मृतक अक्सर अपने स्कूटर की डिग्गी में लाखों रुपए रखता है उसी लालच में अभियुक्तों ने इस घटना को अंजाम। पुलिस ने हत्या के बाद लूटी गई सोने की चेन अंगूठी और स्कूटी की चाबी भी बरामद की। सबसे बड़ी बात यह रही आरोपियों ने स्वीकार किया कि हमने अजय देवगन की फिल्म दृश्यम की तर्ज पर यह हत्या की थी। पुलिस ने इस टीम में शामिल इंस्पेक्टर देवी सिंह एस एस आई ए के सिंह और उनकी टीम को ₹5000 का इनाम भी दिया है। एक चौंकाने वाली बात और सामने आई इस पूरे मामले में ललितपुर कोतवाली में तैनात रह चुके कोतवाल उदयभान सिंह यादव और वर्तमान में ललितपुर में तैनात आबकारी निरीक्षक पीके गिरी जो मृतक दीपक शुक्ला के बहुत करीबी थे और जिस कमरे में दीपक शुक्ला मृत पाए गए वहां इन सब का अक्सर आना जाना लगा रहता था। 
पुलिस अधीक्षक सलमान ताज पाटिल ने कहा कि पुलिस उदय भान सिंह और पीके गिरि की भूमिका की भी जांच कर रही है और अगर इन दोनों की कही संलिप्तता पाई गए तो इनके ख़िलाफ  भी कार्यवाही की जायेगी ।

No comments:

Post a Comment