menubar

breaking news

Thursday, May 11, 2017

उचितदर दुकानों कि की गयी जांच, एक के विरूद्ध रिपोर्ट दर्ज - जिला पूर्ति अधिकारी

VPITSजौनपुर। जिला पूर्ति अधिकारी डा0 राकेश तिवारी ने बताया कि मेरे द्वारा 7 मई व 9 मई को रमेशचन्द उचित दर विक्रेता ग्राम पंचायत दीपापुर विकास खण्ड रामनगर तहसील मड़ियाहूॅ जनपद जौनपुर की उचितदर दुकान की जॉच की गयी। रमेशचन्द्र उचितदर विक्रेता ग्रामपंचायत-दीपापुर विकासखण्ड-रामनगर तहसील-मड़ियाहूॅ द्वारा माह अप्रैल 2017 मे वितरण हेतु 27 अप्रैल को 836 लीटर मिट्टी का तेल आमद थोक मिट्टी तेल विक्रेता से किया गया है किन्तु इसका वितरण माह अप्रैल मे पात्र लाभार्थियो को न करके उसकी कालाबाजारी की गयी है। जॉच के दौरान उचित दर विक्रेता द्वारा प्रस्तुत स्टाक रजिस्टर के अनुसार 27 अप्रैल को 836 लीटर मिट्टी तेल का आमद दर्ज किया गया है जिसका वितरण 29 अप्रैल को 630 लीटर व 30 अप्रैल को 206 लीटर का स्टाक रजिस्टर पर दर्शाया गया है।
वितरण रजिस्टर की मांग की गयी। रमेशचन्द उचित दर विक्रेता दीपापुर के द्वारा मौके पर ही अपने लिखित बयान देकर यह कहा गया कि उनके द्वारा मिट्टी तेल का विक्री रजिस्टर प्रस्तुत करने मे असमर्थ है जिसका कारण विक्री रजिस्टर न बनाये जाने की बात कही गयी। 07 मई को विशेष वितरण दिवस निर्धारित है। इस तिथि मे कोई वितरण कार्य न किये जाने के सम्बन्ध मे यह कहा गया कि उनके गाव मे शादी समारोह होने के कारण विशेष वितरण दिवस पर खाद्यान्न आदि का वितरण नही किया जा रहा है। इस आशय का लिखित बयान 07 मई को सायं काल 5.00 बजे मौके पर विक्रेता द्वारा दिया गया। स्टाक रजिस्टर क अनुसार माह मई 2017 मे वितरण हेतु 26 अप्रैल को विपणन गोदाम रामनगर से उचित दर विक्रेता द्वारा क्रमशः 9.80 कुन्तल गेहूॅ, 7.35 कुन्तल चावल, अन्त्योदय योजना व 35.22 कुन्तल  गेहूॅ, 23.48 कुन्तल चावल पात्र गृहस्थी योजना के अन्तर्गत आमद किया गया है जिसका भौतिक सत्यापन करने पर स्टाक मे उपलब्ध पाया गया किन्तु स्टाक रजिस्टर मे 02 मई के पश्चात स्टाक की उपलब्धता व वितरण स्थिति का अंकन नही किया गया है जिससे प्रथम दृष्टया खाद्यान्न का दुरूपयोग किये जाने की सम्भावना से वितरण कार्य अंग्रिम आदेश तक रोके जाने के निर्देश दिये गये तथा इसी आशय की स्वीकारोक्ति भी श्री रमेशचन्द उचित दर विक्रेता से उनके लिखित बयान मे लिया गया। उचित दर दुकान पर उपलब्ध खाद्यान्न का वितरण रजिस्टर भी पाया गया जिस पर 07 जनवरी से खाद्यान्न का वितरण किये जाने की प्रविष्टि की गयी है किन्तु वितरण रजिस्टर पर वितरण की समाप्ति पर किये गये वितरण का अंतिम अवशेष अंकित नही किया गया है और न ही माह फरवरी ,मार्च व अप्रैल 2017 मे किये गये तथाकथित वितरण की तिथिया ही स्पष्ट की गयी है। मौके पर प्रस्तुत स्टाक रजिस्टर व एक अदद खाद्यान्न विक्री रजिस्टर कब्जे मे लिया गया। 
ग्राम पंचायत मे जाकर दिनांक 09 मई मे आनलाइन सूची के आधार पर आवश्यक वस्तुओ का वितरण का स्थलीय जांच किया गया। लाभार्थियो के द्वारा सूची के अनुसार वितरण के सम्बन्ध मे अपने निम्नवत संयुक्त बयान अंकित कराये गये।
उपरोक्त के अतिरिक्त निम्नलिखित लाभार्थियो के द्वारा अपने पृथक-पृथक बयान देकर राशनकार्ड संख्या का उल्लेख कर खाद्यान्न व मिट्टी तेल के वितरण मे अनियमितता किये जाने के लिखित बयान अंकित कराये गये। 
उपरोक्त बयानो व मौके पर कब्जे मे लिये गये स्टाक रजिस्टर व वितरण रजिस्टर के परीक्षण के आधार पर प्रथम दृष्टया यह परिलक्षित है कि रमेशचन्द उचित दर विक्रेता ग्राम  पंचायत दीपापुर के द्वारा अपने दुकान से सम्बद्ध अन्त्योदय योजना व पात्र गृहस्थी योजना के लाभार्थियो मे वितरण किये जाने हेतु आमद किये गये खाद्यान्न व माह अप्रैल 2017 मे मिट्टी तेल का वितरण नही किया गया है। अपितु उक्त खाद्यान्न व मिट्टी तेल का खुले बाजार मे अधिक मूल्य पर बेच कर कालाबाजारी की गयी है। खद्यान्न का कूटरचित वितरण अभिलेख तैयार कर बोगस खाद्यान्न वितरण दर्शाया गया है। श्री रमेशचन्द उचित दर विक्रेता ग्राम पंचायत दीपापुर का यह कृत्य उत्तर प्रदेश आवश्यक वस्तु (विक्रय एवं वितरण नियन्त्रण का विनियमन) आदेश 2016 व उत्तर प्रदेश केरोसिन कन्ट्रोल आर्डर यथा संशोधित वर्ष 1962 की सुसंगत धाराओ व अनुबन्ध पत्र की शर्तो का स्पष्ट उलंघन है जो कि आवश्यक वस्तु अधिनियम 1955 की धारा 3/7 के अन्तर्गत दण्डनीय अपराध है। इस सम्बन्ध में नियमानुसार प्रथम दृष्टया दोषी व्यक्ति श्री रमेशचन्द्र उचितदर विक्रेता ग्रामपंचायत-दीपापुर के विरूद्ध आवश्यक वस्तु अधिनियम 1955 की धारा 3/7 के अंतर्गत प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कराये जाने हेतु जिलाधिकारी की लिखित अनुमति प्राप्त कर लिया गया है। जिलाधिकारी द्वारा प्रदान की गयी अनुमति 10 मई के द्वारा रमेशचन्द्र उचितदर विक्रेता ग्रामपंचायत-दीपापुर के विरूद्ध प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज करा दी गयी है। 

No comments:

Post a Comment