menubar

breaking news

Friday, May 5, 2017

निर्भया गैंगरेप मामले में सुप्रीम कोर्ट आज सुनाएगा अपना फैसला

Image result for images of nirbhaya hatyakandनिर्भया की माँ ने कहा - मुझे न्याय प्रक्रिया पर पूरा भरोसा
नई दिल्ली। 16 दिंसबर 2012 की रात दक्षिणी दिल्ली के मुनिरका इलाके में गैंगरेप की एक ऐसी घटना घटी जिसने दिल्ली ही नहीं पूरे देश को हिला कर रख दिया था। निर्भया को इंसाफ दिलाने के लिए सड़क से संसद तक आवाज उठी। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट आज अपना अंतिम फैसला सुनाएगी।
6 दरिंदों ने निर्भया के साथ दरिंदगी की थी जिसकी वजह आज वो हमारे बीच नहीं है। 6 दोषियों में एक ने जेल में आत्महत्या कर ली जबकि एक दोषी के नाबालिग होने के कारण उसे सिर्फ 3 साल के लिए बाल सुधार गृह में भेज दिया गया था।
निर्भया गैंगरेप के बाकी बचे 4 दोषियों पर सुप्रीम कोर्ट आज अपना अंतिम फैसला सुनाएगी। 
ऐसे में पत्रकारों से बातचीत में निर्भया की मां आशा देवी ने कहा कि पिछले 5 साल में कई बार खुद को टूटा हुआ महसूस किया, मुझे कई दफा तो ऐसा लगा कि शायद न्याय ही नहीं मिलेगा। मुझे आज के दिन का लंबे समय से इंतजार था और इतने दिनों तक हमारा साथ देने क‌े लिए देशवासियों का धन्यवाद।
उन्होंने कहा कि पहले मेरी बेटी को कोई नहीं जानता था फिर भी लोगों ने उसका साथ दिया लेकिन आज भी हालत वैसी ही है। निर्भया की मां ने सरकारों के रवैये पर निराशा जताते हुए कहा कि ऐसे हादसों से सरकार को कोई फर्क नहीं पड़ता।
उन्होंने कहा क‌ि कहने के लिए रेप दो वर्णों का एक छोटा सा शब्द है लेकिन सिस्टम को इस बारे में सोचना चाहिए और कड़ा एक्शन लेना चाहिए। मेरी बेटी बेकसूर थी फ‌िर भी उसे न्याय म‌िलने में इतनी देरी क्यों हो रही है?
उन्होंने कहा कि टीवी पर बयान देने और डिबेट करने से इसका हल नहीं निकलेगा, उन्होंने कहा कि जब तक कड़ा कानून नहीं बनेगा तब तक इस पर हमें न्याय नहीं मिलेगा। सरकार का इस मुद्दे पर संवेदनशील होना काफी जरूरी है।
मालूम हो कि 16 दिसंबर 2012 की रात मृतक राम सिंह और उस समय नाबालिग रहे आरोपी के अतिरिक्त चार लोगों ने शनिवार की शाम चलती बस में अपने दोस्त के साथ घर जा रही युवती के साथ सामूहिक बलात्कार किया था।

No comments:

Post a Comment