menubar

breaking news

Friday, May 5, 2017

पूर्व चीफ इंजीनियर को बचाने के लिए अखिलेश सरकार ने खर्च किये थे 21.15 लाख रुपए

लखनऊ। अखि‍लेश यादव की सरकार ने नोएडा के पूर्व चीफ इंजीनियर यादव सिंह को सीबीआई जांच से बचाने के लिए सुप्रीम कोर्ट के वकीलों पर 21.15 लाख रुपए खर्च करने का मामला प्रकाश में आया है।
सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक सपा सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में यादव सिंह की पैरवी के लिए चार सीनियर एडवोकेट अप्वाइंट किए थे। इनमें कपिल सिब्बल को 8.80 लाख रुपए, हरीश साल्वे को 5 लाख, राकेश द्विवेदी को 4.05 लाख और दिनेश द्विवेदी को 3.30 लाख रुपए दिए गए थे। यानी वकीलों को 21.25 लाख रुपए की पेमेंट की गई। 
इस मामले में लोगों का कहना है कि यह वास्तव में अफसोसजनक है कि यादव सिंह जैसे दागी को बचाने के लिए राज्य सरकार ने इतनी बड़ी रकम खर्च की। इसकी जांच कराकर योगी सरकार को पूरा पैसा वसूलना चाहिए।
सूत्रों की मानें तो सीबीआई ने अपने आरोप पत्र में यादव सिंह पर तीन कंपनियों तिरुपति कंस्ट्रक्शन, एनकेजी कंस्ट्रक्शन, जेएसपी प्रोजेक्टस को 19.42 करोड़ रुपए का अनुचित लाभ पहुंचाने का आरोप लगाया था। 
प्रवर्तन निदेशालय ने अपनी जांच में सीबीआई के आरोपों को सही पाया और तीनों कंपनियों की 19.42 करोड़ रुपए की संपत्ति जब्त कर ली। उनमें एनकेजी इन्फ्रास्ट्रक्चर के 4.52 करोड़, तिरुपति कंस्ट्रक्शन के 5.11 करोड़ और जेएसपी प्रोजेक्ट्स के 9.79 करोड़ रुपए शामिल हैं।

No comments:

Post a Comment